भड़काऊ भाषण देने पर भाजपा विधायक सुरेश राना के खिलाफ केस दर्ज

भाजपा विधायक सुरेश राना ने एक नए विवाद को जन्म देते हुए कहा है कि अगर वह अगले माह उत्तरप्रदेश में होने वाला विधानसभा चुनाव जीत जाते हैं तो कैराना, देवबंद और मुरादाबाद में कर्फ्यू लगाया जाएगा।

भड़काऊ भाषण देने पर भाजपा विधायक सुरेश राना के खिलाफ केस दर्ज

मुजफ्फरनगर : विवादास्पद भाजपा विधायक सुरेश राना के खिलाफ सोमवार को उत्तर प्रदेश पुलिस ने भड़काऊ भाषण देने के आरोप में मामला दर्ज किया है। उन्होंने कहा था कि अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव में अगर वह फिर से जीते तो कैराना, देवबंद और मुरादाबाद में कर्फ्यू लगाया जाएगा।

पड़ोसी जिले शामली की थाना भवन सीट से भाजपा उम्मीदवार राना पर 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों का आरोप है। राना ने शनिवार को अपने विधानसभा क्षेत्र में लोगों को संबोधित करते हुए उपरोक्त टिप्पणी की थी। विपक्षी दलों ने राणा के इस बयान की कड़े शब्दों में निंदा की है।

उन्होंने कहा, ‘अगर मैं विजयी रहा (उप्र चुनावों में), तो कैराना, देवबंद और मुरादाबाद में कर्फ्यू लगाया जाएगा।’ थाना भवन के क्षेत्राधिकारी सुनील कुमार त्यागी ने कहा कि राना के खिलाफ उनके विवादित बयान को लेकर आईपीसी की धारा 505 (लोगों को उकसाने के उद्देश्य से दिया गया बयान) और जनप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125 (चुनाव के मद्देनजर दो वर्गों में वैमनस्य बढ़ाने) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

अधिकारी ने कहा कि ये पाया गया कि विधायक के बयान से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन हुआ है।

राना ने आज अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उनकी टिप्पणी गुंडों के लिए थी जिन्होंने प्रदेश में आतंक फैला रखा है।

राना ने कहा, ‘मेरा आशय था कि गुंडों और लुटेरों के फैलाए खौफ से बहुत से लोग पश्चिमी उत्तर प्रदेश छोड़कर जाने की योजना बना रहे हैं। इलाके में ऐसा कोई सा शहर नहीं जहां लोग इन गुंडों के डर से बाहर जाने की योजना नहीं बना रहे हों।’

राना ने कहा, ‘जब उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी तब माफिया का हिस्सा बने ये गुंडे, जिनके डर से लोग घर छोड़कर जाने को मजबूर हैं, प्रदेश छोड़कर जाने को मजबूर हो जाएंगे। यूपी के निवासियों को डर से घर छोड़कर नहीं जाना पड़ेगा। गुंडों को प्रदेश छोड़कर जाना पड़ेगा।’ कैराना पिछले साल उस वक्त सुखिर्यों में आया जब भाजपा सांसद हुकुम सिंह ने यहां से बड़ी संख्या में हिंदुओं के पलायन का आरोप लगाया और 300 हिंदू परिवारों की सूची जारी कर दी जो कथित तौर पर बार-बार वसूली की धमकी और हिंसक हमलों के बाद अपना घर छोड़ गए।

राणा पर निशाना साधते हुए समाजवादी पार्टी की नेता जूही सिंह ने कहा, ‘कर्फ्यू लगा कर वो क्या करना चाहते हैं, लगता है वो इतने भी शिक्षित नहीं कि ये जानें कि कर्फ्यू कब लगाया जाता है। एक सूची हुकुम सिंह लेकर आए थे जो गलत थी। वो लोगों को गलत चीजें बता रहे हैं जिससे लोग उनसे ये महत्वपूर्ण सवाल न पूछ पाएं कि कैराना के लिए वो कौन सी योजना लेकर आए।’ वहीं भाजपा नेता रीता बहुगुणा जोशी ने विधायक के बयान से दूरी बनाते हुए कहा, ‘अगर कोई उम्मीदवार कुछ कहता है तो इसके लिए पार्टी जिम्मेदार नहीं है।’

जोशी ने कहा, ‘मोदीजी और अमित शाह कह रहे हैं कि ऐसे बयान नहीं देने चाहिए। मुझे नहीं पता किस संदर्भ में उन्होंने (राना ने) ये बयान दिया लेकिन मैं समझती हूं कि हमारी पार्टी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही है।’ राना पर शामली जिले के अपने विधानसभा क्षेत्र में बिना इजाजत रोड शो निकालने पर भी कल केस दर्ज किया गया था।