साक्षी महाराज को याद आया कब्रिस्तान-श्मशान राग, बोले 'हमारे धैर्य की परीक्षा न ली जाए'

सांसद साक्षी महाराज ने नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए कहा कि 'अनुपात के हिसाब से कब्रिस्तान और शमशान होना चाहिए. ' उन्होंने पूछा कि ये घोर अन्याय नहीं है क्या? साक्षी महाराज ने ये भी कहा कि हमारे धैर्य और शालीनता की परीक्षा न ली जाए. 

साक्षी महाराज को याद आया कब्रिस्तान-श्मशान राग, बोले 'हमारे धैर्य की परीक्षा न ली जाए'
Play

उन्नाव: अपने विवादित बयानों के चलते अक्सर चर्चा में रहने वाले बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने एक बार फिर उपचुनाव के प्रचार के दौरान कुछ ऐसा कहा है, जिससे विवाद खड़ा हो गया है. उन्नाव की बांगरमऊ सीट पर बीजेपी प्रत्याशी श्रीकांत कटियार के समर्थन में बीजेपी सांसद साक्षी महाराज नुक्कड़ सभा कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें श्मसान और कब्रिस्तान याद आ गया. साक्षी महाराज ने नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए कहा कि गांवों में अक्सर देखा गया है कि अगर एक भी मुस्लिम गांव में हो तो कब्रिस्तान काफी बड़ा होता है लेकिन हिंदू दाह संस्कार के लिए गंगा किनारे या फिर खेत की मेड़ पर जाते हैं. 

आबादी के अनुपात से हो कब्रिस्तान या श्मशान 
सांसद साक्षी महाराज ने नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए कहा कि 'अनुपात के हिसाब से कब्रिस्तान और शमशान होना चाहिए. ' उन्होंने पूछा कि ये घोर अन्याय नहीं है क्या? साक्षी महाराज ने ये भी कहा कि हमारे धैर्य और शालीनता की परीक्षा न ली जाए. 

समाजवादी पार्टी ने दी प्रतिक्रिया 
साक्षी महाराज बांगरमऊ में उपचुनाव के लिए वोट मांगने आए थे, जहां उन्होंने ये बयान दिया. उनके इस बयान पर समाजवादी पार्टी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि बीजेपी चुनाव आते ही नफरत की राजनीति कर रही है. प्रदेश में बढ़ते अपराध के बजाय साक्षी महाराज नफरत की राजनीति ही करेंगे. 

WATCH LIVE TV