close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली छात्रा से मिलीं वृंदा करात, बोलीं- 'SIT और पुलिस ने गलत किया'

दोनों नेताओं ने कहा कि इस मामले में हमने एसआईटी के सभी अधिकारियों को निष्पक्ष कार्रवाई के लिए ज्ञापन दिया है. अब वह लोग अपने वकीलों से राय लेने के बाद इस मामले में आगे बड़ा कदम उठाएंगी. 

चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली छात्रा से मिलीं वृंदा करात, बोलीं- 'SIT और पुलिस ने गलत किया'
माकपा नेता वृंदा करात. फाइल फोटो

नई दिल्ली: चिन्मयानंद मामले में यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पीड़िता को SIT ने गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. पीड़िता पर आरोप है कि उसने स्वामी चिन्मयानंद ब्लैकमेल किया और 5 करोड़ रुपये की मांग की. इसी मामले में अब माकपा नेता वृंदा करात और सुभाषिनी अली ने पीड़ित लड़की से जेल जाकर बात की. वृंदा करात ने कहा कि शाहजहांपुर के दोनों ही प्रकरण में एक तरह की कार्रवाई हो. छात्रा के रंगदारी मांगने के वायरल वीडियो पर उन्होंने कहा कि छात्रा को जेल भेजने की जगह उसके बाहर रहने पर भी जमानत दी जा सकती थी. इस तरह की कार्रवाई दिखाती है कि लड़की और उसके परिवार को डराया जा रहा है. 

दोनों महिला नेताओं का कहना है कि लड़की कह रही है कि बलात्कार हुआ लेकिन उसका मुकदमा दर्ज नहीं किया जा रहा है. एसआईटी को स्पष्ट कहा है मैंने कि दोनों एफआईआर एक साथ कैसे रख सकते हैं. एसआईटी का कदम पीड़ित लड़की को हताश कर रहा है. आप लड़की को जेल भेज रहे हैं और ये शर्मशार करने वाला है. लड़की की तरफ से अभी तक कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है. दोनों नेताओं ने कहा कि इस मामले में हमने एसआईटी के सभी अधिकारियों को निष्पक्ष कार्रवाई के लिए ज्ञापन दिया है. अब वह लोग अपने वकीलों से राय लेने के बाद इस मामले में आगे बड़ा कदम उठाएंगी. 

चिन्मयानंद ब्लैकमेलिंग मामला: पीड़िता को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

बता दें कि कोर्ट ने पीड़िता को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. कड़ी सुरक्षा के बीच SIT की टीम उसे जेल लेकर गई.  बता दें, स्वामी चिन्मयानंद से ब्लैकमेलिंग मामले में पीड़िता के तीन साथियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. फिलहाल, तीनों न्यायिक हिरासत में हैं. बेटी की गिरफ्तारी पर पीड़िता के पिता ने SIT की कार्रवाई पर गंभीर सवाल उठाए.