रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग थामेंगे BJP का दामन, एक दिन पहले CM योगी से हुई थी पिता की मुलाकात

भाजपा में शामिल होने के सवाल पर चिराग उपाध्याय ने कहा कि बीजेपी में अपनी बात रखने की आजादी है, दो-चार दिन बाद लखनऊ में बीजेपी ज्वाइन करूंगा.  

रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग थामेंगे BJP का दामन, एक दिन पहले CM योगी से हुई थी पिता की मुलाकात
BSP के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग उपाध्याय.

आगरा: बहुजन समाज पार्टी के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग उपाध्याय बीजेपी का दामन थामने जा रहे हैं. शनिवार को रामवीर उपाध्याय ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी, जिसके बाद से कयास लगाए जा रहे हैं कि वो भी जल्द बीजेपी ज्वाइन कर सकते हैं.

रविवार को अपने कार्यकर्ताओं के साथ आगरा भाजपा बृज क्षेत्र कार्यालय पहुंचे चिराग उपाध्याय ने कहा, ''मैं मोदी जी और योगी जी की कार्य शैली से प्रभावित हूं, श्रीराम का भक्त हूं और अब देश में राम मंदिर बनने जा रहा है. देश में और भी बहुत अच्छे काम हो रहे हैं इसलिए बीजेपी की विचारधारा से जुड़कर देश की सेवा करना चाहता हूं.''

भाजपा में कब शामिल होने के सवाल पर चिराग उपाध्याय ने कहा कि बीजेपी में अपनी बात रखने की आजादी है, दो-चार दिन बाद लखनऊ में बीजेपी ज्वाइन करूंगा.

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी की मोर के साथ है खास दोस्ती, दाना चुगाते हुए शेयर किया वीडियो

चिराग की पिता रामवीर उपाध्याय भी हो सकते हैं BJP के साथ 
चिराग के पिता रामवीर उपाध्याय के भी बीजेपी ज्वाइन करने के कयास लगाए जा रहे हैं, राजनीति में रामवीर उपाध्याय की पहचान एक अनुभवी नेता के रूप में होती है. वह बहुजन समाज पार्टी से चार बार (1996, 2002, 2007, 2012) विधानसभा सदस्य रह चुके हैं. रामवीर उपाध्याय बसपा सुप्रीमो के बेहद करीबी रहे हैं. उन्हें सतीश चंद्र मिश्रा के बाद पार्टी का प्रमुख ब्राह्मण चेहरा माना जाता है. 2017 में बीजेपी सरकार बनने के बाद से ही माना जा रहा था कि वो बसपा का साथ छोड़ सकते हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान भी वे चर्चाओं में रहे, कभी उन्होंने BJP के समर्थन में अपील की तो कभी BJP प्रत्याशी एसपी सिंह को गले लगा लिया, उन्हें इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ा. लोकसभा के नतीजों से पहले ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था.

लेकिन अब शायद मौका भी है और दस्तूर भी, 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की सियासत ब्राह्मणों के इर्द-गिर्द घुम रही है. सभी पार्टियां अपने-अपने तरीके से ब्राह्मण वोटों को रिझाने में लगी हुई हैं. ऐसे में बीजेपी ने भी अपना दांव चलते हुए उनके बेटे चिराग को अपनी ओर खींच लिया है, वहीं बसपा के कद्दावर नेता रहे रामवीर उपाध्याय के भी बीजेपी ज्वाइन करने की खबरें हैं.

बेटे को सौंपना चाहते हैं अपनी राजनीतिक विरासत?
रामवीर उपाध्याय के छोटे भाई पूर्व एमएलसी मुकुल उपाध्याय भाजपा में पिछले साल शामिल हो गए थे. उसके बाद से मुकुल उपाध्याय भाजपा में सक्रिय हैं. वहीं रामवीर उपाध्याय के एक और भाई विनोद उपाध्याय जिला पंचायत अध्यक्ष हैं. वह भी जिला पंचायत अध्यक्ष बनने के बाद भाजपा का पटका पहने दिख चुके हैं. राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि रामवीर उपाध्याय अपनी राजनीतिक विरासत अपने पुत्र चिरागवीर को सौंपना चाहते हैं. पिछले विधानसभा चुनाव से ही चिरागवीर की राजनीतिक सक्रियता दिखाई देने लगी थी, जब वह सादाबाद में अपने पिता के लिए चुनाव प्रचार करने उतरे थे.

WATCH LIVE TV: