कन्नौज: 13 फर्जी शिक्षकों की बर्खास्तगी के बाद केस दर्ज, फर्जी प्रमाण पत्र के सहारे हासिल की थी नौकरी

कन्नौज में अब तक हुई जांच में एसआईटी ने 13 फर्जी शिक्षकों का भंडाफोड़ किया है. इससे पहले एसआईटी जांच में फर्जी पाए गए 6 और शिक्षक बर्खास्त किये जा चुके हैं.

कन्नौज: 13 फर्जी शिक्षकों की बर्खास्तगी के बाद केस दर्ज, फर्जी प्रमाण पत्र के सहारे हासिल की थी नौकरी
एसआईटी ने 13 फर्जी शिक्षकों का भंडाफोड़ किया है.

कन्नौज: उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की सख्ती के बाद शुरू हुई शिक्षकों की जांच के नतीजे अब सामने आने लगे हैं. कन्नौज में बुधवार को 13 फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त कर मुकदमा दर्ज कराया गया है. सभी पर फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर नौकरी हासिल करने का आरोप है.

योगी सरकार के फरमान के बाद एसआईटी ने परिषदीय विद्यालयों में तैनात शिक्षकों के शैक्षिक प्रमाणपत्रों की जांच शुरू की है. कन्नौज में अब तक हुई जांच में एसआईटी ने 13 फर्जी शिक्षकों का भंडाफोड़ किया है. इससे पहले एसआईटी जांच में फर्जी पाए गए 6 और शिक्षक बर्खास्त किये जा चुके हैं. बर्खास्त शिक्षकों में 4 महिलाएं भी हैं.

जांच में सामने आया कि सबसे ज्यादा फर्जी डिग्रियों पर नौकरी करने वाले 8 शिक्षक छिबरामऊ ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालयों में तैनात थे, इनमें 5 प्रोन्नत होकर प्रधानाध्यापक बन गए. जबकि 5 उमर्दा, सौरिख, हसेरन और सदर ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालयों में तैनात थे.

बीएसए केके ओझा ने बताया कि सभी फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त कर धोखाधड़ी, जालसाजी का मुकदमा दर्ज कराया गया है. साथ ही जब से नौकरी पर लगे हैं तब से दिये गए वेतन की रिकवरी की जाएगी.