केंद्र सरकार ने Whatsapp CEO से कहा- भारतीयों को नहीं स्वीकार नई Privacy Policy, इसे वापस लें

Ministry of Electronics and Information Technology ने व्हॉट्सएप के सीईओ विल कैथकार्ट (Will Cathcart) को पत्र लिख कर कहा है कि इंडियन यूजर्स नई टर्म्स ऑफ सर्विस और प्राइवेसी पॉलिसी स्वीकार नहीं करेंगे. 

केंद्र सरकार ने Whatsapp CEO से कहा- भारतीयों को नहीं स्वीकार नई Privacy Policy, इसे वापस लें
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली: Whatsapp की नई प्राइवेसी पॉलिसी ने लोगों को चिंता में डाल दिया है. यूजर्स को डर है कि नई पॉलिसी एक्सेप्ट करने के बाद से उनकी पर्सनल इन्फॉर्मेशन Facebook स्टोर या शेयर कर सकता है. ऐसे में केंद्र सरकार ने भी उपभोक्ताओं की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की है. सरकार ने  Whatsapp मैनेजमेंट को चिट्ठी लिख प्राइवेसी पॉलिसी में हुए बदलाव को वापस लेने की बात कही है. साथ ही, इस नई पॉलिसी को लेकर व्हॉट्सएप से 10 सवाल भी पूछे गए हैं. 

ये भी पढ़ें: कोर्ट का Live-in Relationship पर अहम फैसला, शादीशुदा हो कर किसी और के साथ रहना अपराध

यूजर्स की सूचना सुरक्षा पर उठाए सवाल
Ministry of Electronics and Information Technology ने व्हॉट्सएप के सीईओ विल कैथकार्ट (Will Cathcart) को पत्र लिख कर कहा है कि इंडियन यूजर्स नई टर्म्स ऑफ सर्विस और प्राइवेसी पॉलिसी स्वीकार नहीं करेंगे. मंत्रालय ने यूजर्स की सूचना सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं और कहा है कि चैट का डेटा बिजनेस अकाउंट से शेयर करने से फेसबुक की अन्य कंपनियों को यूजर्स के बारे में सारी जानकारी मिल जाएगी. इससे उनकी सुरक्षा को खतरा हो सकता है.

ये भी पढ़ें: विधान परिषद में लगी सावरकर की तस्वीर से कांग्रेस को ऐतराज, बताया स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान

'या तो मानिए या फिर छोड़िए' नीति गलत
मंत्रालय के मुताबिक व्हॉट्सएप 'या तो मानिए या फिर छोड़िए' (Either Agree or Leave) नीति के तहत नई पॉलिसी को मानने के लिए मजबूर कर रहा है. यूजर्स के पास इनकार करने का ऑप्शन नहीं है. सरकार ने व्हॉट्सएप को सुप्रीम कोर्ट के 2017 के फैसले में आए प्राइवेसी नियमों के बारे में भी ध्यान दिलाया है. मंत्रालय ने पूछा कि ऐसे समय जब भारतीय संसद में पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल (Personal data protection bill) पर चर्चा चल रही है, तो व्हॉट्सएप यह पॉलिसी क्यों लाया? यह बिल संयुक्त संसदीय समिति के पास विचाराधीन है. इसमें डेटा के लिए उपयोग लिमिटेशन का प्रावधान है. यानी कंपनी जिस काम के लिए यूजर का डेटा ले रही है केवल उसी के लिए इस्तेमाल कर सकती है. इसके लिए यूजर की सहमति भी जरूरी है.

ये भी पढ़ें: पशुपालन घोटाला: निलंबित DIG अरविंद सेन की संपत्ति कुर्क होना तय, जल्द तय होगी तारीख

Whatsapp से पूछे गए कुछ सवाल

  • किन श्रेणियों में यूजर्स का डेटा कलेक्ट किया जाता है? यूजर्स से मांगी गई परमिशन की उपयोगिता क्या है?
  • भारत और बाकी देशों में व्हॉट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी क्या-क्या है?
  • इस्तेमाल के आधार पर Whatsapp भारतीय यूजर्स की जो प्रोफाइलिंग बनाता है, उसका नेचर क्या है?
  • क्या एप यूजर्स डेटा की हार्वेस्टिंग भी करता है?
  • क्या डेटा हार्वेस्टिंग करने की वजह से किसी देश ने उसके खिलाफ कोई कार्रवाई की है? 
  • भारतीय यूजर्स का डेटा किस सर्वर से होस्ट होता है, विवरण दें?  

ये भी पढ़ें: Lucknow University: टूरिज्म छात्रों को मिलेगा बड़ा मौका, अब देश के किसी भी हिस्से में कर पाएंगे ट्रेनिंग

Whatsapp के सबसे ज्यादा यूजर भारत में 
मंत्रालय का कहना है कि भारत व्हॉट्सएप का सबसे बड़ा यूजर बेस है और व्हॉट्सएप सर्विस का सबसे बड़ा बाजार है. लेकिन एप की यह नई शर्तें भारत के लिहाज से चिंता पैदा कर रही हैं. सरकार ने कहा है कि व्हॉट्सएप को प्रस्तावित बदलावों को वापस लेकर सूचना प्राइवेसी चुनने की स्वतंत्रता और डेटा सिक्योरिटी पर पुनर्विचार करना चाहिए. 

WATCH LIVE TV