close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बधाई संदेश के मैसेज से त्रस्त हैं हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस, आया आदेश- 'बंद कीजिए ये सब'

इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की ओर से सभी जिला जजों को चिट्ठी लिखकर यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि भविष्य में कोई भी न्यायिक अधिकारी चीफ जस्टिस के मोबाइल पर किसी भी तरह का बधाई संदेश न भेजें. 

बधाई संदेश के मैसेज से त्रस्त हैं हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस, आया आदेश- 'बंद कीजिए ये सब'

प्रयागराज: सुबह से लेकर देर रात तक हम सब के मोबाइल पर गुड मॉर्निंग से लेकर त्योहारों के तमाम बधाई और शुभकामना संदेश आते रहते हैं. हम सब इससे परेशान हैं, लेकिन चाह कर भी कुछ कर नहीं पाते हैं. इस बार ऐसे ही बधाई संदेशों से इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के चीफ जस्टिस परेशान हैं. अब मामला चीफ जस्टिस का है सो तुरंत ऐसे बधाई और शुभकामना मैसेज भेजने वालों को हिदायत दे दी गई है कि वे ऐसा ना करें. 

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के चीफ जस्टिस की ओर से सभी जिला जजों को चिट्ठी लिखकर यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि भविष्य में कोई भी न्यायिक अधिकारी चीफ जस्टिस के मोबाइल पर किसी भी तरह का बधाई संदेश न भेजें. जन्माष्टमी पर कुछ न्यायिक अधिकारियों की ओर से लगातार आ रहे बधाई संदेश से परेशान चीफ जस्टिस ने ये हिदायत दी है.

पत्र में कहा गया कि अतिआवश्यक या विषम परिस्थितियों में ही मुख्य न्यायाधीश को न्यायिक अधिकारी मैसेज करें. इसकी अवहेलना करने को गंभीरता से लिया जाएगा. उन्होंने जिला जजों से कहा कि वह इसकी सूचना अपने अधीनस्थ सभी न्यायिक अधिकारियों को दें और गंभीरता से पालन करें. महानिबंधक ने यह आदेश 23 अगस्त को जारी किया है.

उल्लेखनीय है कि न्यायिक अधिकारियों की ओर से मुख्य न्यायाधीश को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर बड़ी संख्या में मोबाइल पर बधाई संदेश भेजे गए, जिससे उनको काफी असुविधा का सामना करना पड़ा. इसके मद्देनजर उन्होंने महानिबंधक को मैसेज भेजने पर रोक लगाने के लिए निर्देशित किया है.