close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंदिरा नहर हादसे में लापता बच्चों के परिजनों का आरोप, चालक था नशे में

इस संबंध में एसडीएम सूर्यकांत ने मीडिया से बातचीत में बताया कि ड्राइवर को मेडिकल जांच के लिए अस्पताल भेजा गया है.

इंदिरा नहर हादसे में लापता बच्चों के परिजनों का आरोप, चालक था नशे में
पुलिस के गोताखोरों की टीमें भी बचाव कार्य में लगी है. (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ: इंदिरा नहर में बृहस्पतिवार की सुबह पिकअप वैन गिरने से सात बच्चे लापता हो गए है. हादसे के बाद लापता बच्चों के परिजनों का आरोप लगाया है कि वैन चालक शराब के नशे में था और बहुत तेज गति से वाहन चला रहा था. जिस कारण यह हादसा हुआ. 

इस संबंध में एसडीएम सूर्यकांत ने मीडिया से बातचीत में बताया कि ड्राइवर को मेडिकल जांच के लिए अस्पताल भेजा गया है. आपको बता दें कि लापता बच्चों में मानसी (4 वर्ष), मनीषा (5 वर्ष), सौरभ (8 वर्ष), सचिन (6 वर्ष), साजन (8 वर्ष), अमन (9 वर्ष) के अलावा एक अन्य बच्चा शामिल है. 

बता दें कि राजधानी के निकट नगराम में विवाह समारोह से लौट रही एक पिकअप वैन आज सुबह इंदिरा नहर में जा गिरी, जिससे 29 लोग नहर में डूब गये. इनमें से 22 लोगों को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम ने सुरक्षित निकाल लिया लेकिन सात बच्चों का अब तक कोई पता नहीं चल पाया है. इन बच्चों की तलाश की जा रही है.

एसडीएम शर्मा ने बताया कि एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों के साथ पुलिस के गोताखोरों की टीमें भी इंदिरा नहर में बच्चों को ढूंढ रही हैं. घटनास्थल पर एंबुलेंस के साथ डॉक्टरों की टीमें भी हैं ताकि बच्चों के मिलने पर, जरूरत के अनुसार तत्काल उनका इलाज किया जा सके. 

बच्चों के परिजनों का आरोप है कि ड्राइवर शराब के नशे में था और बहुत तेज गति से वाहन चला रहा था. लापता हुए एक बच्चे की मां लज्जावती ने संवाददाताओं को बताया ‘‘रात का समय था और नशे की हालत में चालक बहुत तेज गति से गाड़ी चला रहा था. उसे कई बार धीरे चलने को कहा गया कि लेकिन उसने किसी की बात नहीं सुनी और वैन नहर में जा गिरी .’’ 

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने माना कि वाहन की रफ्तार तेज होने के कारण यह हादसा हुआ और वैन में अंधेरे में पानी में जा गिरी. पहले तो ग्रामीण खुद ही लोगों को निकालने की कोशिश करते रहे और फिर सूचना मिलते ही जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन की टीमें घटनास्थल पर पहुंचीं. तब राहत और बचाव का काम आरंभ हुआ.

घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इंदिरा नहर में वैन डूबने की घटना पर दुख व्यक्त किया और अधिकारियों को डूबे लोगों को ढूंढने में तत्परता दिखाने के निर्देश दिये .

(इनपुट भाषा से भी)