गोरखपुर विश्वविद्यालय में छात्रों के दो गुटों में मारपीट, पुलिस ने भांजी लाठियां

पूरा बवाल तब शुरू हुआ जब एक छात्रनेता ने प्रोफेसर से बदसलूकी की. इसके विरोध में विधि विभाग के छात्र तथा अध्यक्ष पद के प्रत्याशी व उसके समर्थक भिड़ गए. 

गोरखपुर विश्वविद्यालय में छात्रों के दो गुटों में मारपीट, पुलिस ने भांजी लाठियां
दोनों पक्षों में विवाद गहराता देख पुलिस ने लाठी चलाई. (फोटो एएनआई)

नई दिल्ली/गोरखपुर: गोरखपुर विश्वविद्यालय में मंगलवार (11 सितंबर) को छात्रसंघ चुनाव के प्रचार को लेकर अध्यक्ष पद के दो प्रत्याशी आपस में भिड़ गए. जानकारी के मुताबिक, पूरा बवाल तब शुरू हुआ जब एक छात्रनेता ने प्रोफेसर से बदसलूकी की. इसके विरोध में विधि विभाग के छात्र तथा अध्यक्ष पद के प्रत्याशी व उसके समर्थक भिड़ गए. स्थिति नियंत्रण में करने को लेकर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया.  पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया है. 

 

 

घटना के बाद विश्वविद्यालय परिसर में भारी तादाद में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. पुलिस का कहना है कि प्रचार के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता दीवार पर स्टीकर लगा रहे थे. तभी लॉ विभाग के एक असिस्टेंट प्रोफेसर ने दीवार पर स्टीकर लगाने से मना कर दिया. इस बात से नाराज छात्रों ने शिक्षक से हाथापाई कर दी. शिक्षक के साथ हाथापाई होते देख विरोध में लॉ के छात्र सड़क पर आ गए. उन्होंने एबीवीपी के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. 

ये भी पढ़ें: जेएनयू में छात्र संघ चुनाव के लिए तारीख हुई घोषित, यहां जानें पूरा शिड्यूल

इसी दौरान अध्यक्ष पद का एक अन्य प्रत्याशी अनिल दुबे छात्रों को लेकर मौके पर पहुंच गया. लॉ के छात्रों के उसका विवाद हो गया. दोनों पक्षों में विवाद गहराता देख पुलिस ने लाठी चलाई. इससे कई छात्रों को चोटें भी आईं है. अध्यक्ष पद के प्रत्याशी अनिल दुबे और आलोक सिंह को पुलिस ने हिरासत में लिया है. 

हैरानी की बात ये है कि छात्रहितों की बात करने वाले छात्रनेता शातिर गुंडों की तरह मारपीट करते नजर आए. आपको बता दें कि गोरखपुर विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव का माहौल चल रहा है. यहां पर 13 सितंबर को मतदान होना