close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: उत्तरकाशी में बादल फटने से कई लापता, आरारोट और मकौड़ी क्षेत्र में भारी नुकसान

उत्तराखंड में भारी बारिश ने एक बार फिर कहर बरपाया है. शनिवार रात से जारी बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित उत्तरकाशी जिला हुआ है.

VIDEO: उत्तरकाशी में बादल फटने से कई लापता, आरारोट और मकौड़ी क्षेत्र में भारी नुकसान
उत्तरकाशी के अलावा रूद्रप्रयाग जिला भी भारी बारिश के कारण बुरी तरह प्रभावित हो रहा है.

देहरादून: उत्तराखंड में भारी बारिश ने एक बार फिर कहर बरपाया है. शनिवार रात से जारी बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित उत्तरकाशी जिला हुआ है. यहां भारी बारिश के कारण कई लोग लापता हो गए हैं जबकि कई लोग मलबे में दबे हुए हैं. उत्तरकाशी जिला प्रशासन ने एसडीआरएफ, रेड क्रॉस, आईटीबीपी को घटनास्थल के लिए निकाल दिया है. इधर हिमांचल सीमा से लगते इलाकों में मदद के लिए शिमला के जिलाधिकारी से भी संपर्क कर प्रभावित इलाकों तक मदद पहुंचाने को कहा गया है. 

उत्तरकाशी के आराकोट, मकोड़ी, डगोली गांव और त्यूणी बाजार सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. कई गांव में मलबा घुस गया है. इनमें कई लोगों के दबे होने की खबर है. सम्पर्क मार्गों और पुलों के टूटने के कारण प्रशासन और एस डी आर एफ को इन इलाकों में पंहुचने में दिक्कत आ रही है. उत्तरकाशी की सीमा हिमांचल प्रदेश से भी लगती है. इसलिए जिला प्रशासन ने हिमांचल प्रदेश से भी मदद मांगी है. 

मौसम विभाग ने शनिवार को ही गढ़वाल क्षेत्र के लिए भारी बारिश का अलर्ट जारी किया था. शनिवार को शाम से गढ़वाल के सभी जिलों में बारिश शुरू हुई. लेकिन भागीरथी घाटी, टौंस घाटी और यमुना घाटी में कई जगह भारी बारिश से जो तबाही हुई इसका अंदाजा किसी को नहीं था. सबसे ज्यादा नुकसान टौंस घाटी और हिमांचल प्रदेश की सीमा से लगते हुये क्षेत्रों को हुआ. आरारोट और मकौड़ी क्षेत्र में बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है. 

 

शिमला के जिलाधिकारी से भी मांगी मदद
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भारी बारिश के कारण आराकोट, मकोड़ी, डगोली गांव और त्यूणी में जल्द से जल्द सुरक्षित स्थानों तक पंहुचाने के आदेश दिए हैं. उत्तरकाशी के जिला अधिकारी आशीष चौहान ने कहा है कि मकौड़ी और डगोली क्षेत्रों में तेज बारिश के कारण लोगों के फंसे होने की खबर है. लोगों को बचाने के लिए उत्तरकाशी के बड़कोट क्षेत्र से एसडीआरएफ की टीम आपदा प्रभावित क्षेत्रों के लिए निकाली जा चुकी है. साथ ही रेड क्रॉस की टीम भी घटना स्थल के लिए निकल चुकी है. आईटीबीपी को भी मदद के लिए निकाला जा रहा है. चौहान ने कहा कि प्रभावित गांवों तक पंहुचने के लिए जिलाधिकारी देहरादून और हिमाचल प्रदेश के शिमला के जिलाधिकारी से भी सम्पर्क कर मदद मांगी जा रही है. 

उत्तरकाशी के अलावा रूद्रप्रयाग जिला भी भारी बारिश के कारण बुरी तरह प्रभावित हो रहा है. यहां केदारनाथ धाम के पास बना पुल भी बारिश के कारण बह गया. मंदाकिनी नदी कई जगह खतरे के स्थान के ऊपर बह रही है. चमोली में भी मौसम खराब है. यंहा पिछले दिनों भारी बारिश के कारण तबाही आई थी. आपदा पीड़ितों से मिलने के लिए आज मुख्यमंत्री को चमोली पंहुचना था लेकिन मौसम खराब होने के कारण उनका दौरा रद्द हो गया. कुमाऊं में भी बारिश ने आम जनजीवन को ठप्प कर दिया. कैलाश मानसरोवर यात्रा भी बारिश और लैंडस्लाइड के कारण प्रभावित हुई है.