CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया 4 नई योजनाओं का ऐलान, बोले- 'अब तक 57 फीसदी घोषणाएं पूरी'

गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए सीएम रावत ने बताया कि सरकार 57 फीसदी घोषणाएं पूरी हो चुकी हैं. वहीं, आने वाले 2 साल में सभी घोषणाएं पूरी हो जाएंगी.

CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया 4 नई योजनाओं का ऐलान, बोले- 'अब तक 57 फीसदी घोषणाएं पूरी'
फाइल फोटो

देहरादून: त्रिवेंद्र सरकार 18 मार्च को अपने तीन साल पूरे करने जा रही है. वहीं इससे पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने चार नई योजनाओं की घोषणा कर दी है. गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए सीएम रावत ने बताया कि सरकार 57 फीसदी घोषणाएं पूरी हो चुकी हैं. वहीं, आने वाले 2 साल में सभी घोषणाएं पूरी हो जाएंगी.

नई योजनाओं का ऐलान करते हुए सीएम रावत ने कहा कि 2022 तक प्रदेश के सभी गांवों तक सड़क का निर्माण किया जाएगा. साथ ही साधु-संतों के दाह संस्कार के लिए हरिद्वार में सरकार जमीन उपलब्ध कराएगी. प्रवासी उत्तराखंड वासियों के लिए सरकार अलग से विभाग बनायेगी. वहीं, अनाथ बच्चों की देखरेख के लिए सरकार ने मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा की है.

योजनाओं को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंत्रियों और विधायकों के साथ विचार विमर्श भी किया. जिसमें स्वास्थ्य, शिक्षा के साथ कई विभागों में हो रहे कार्यों की समीक्षा की गई.

2022 तक सड़क से जुड़ेंगे सभी गांव 
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि प्रदेश सरकार ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को लेकर संजीदगी के साथ काम कर रही है. 2022 तक प्रदेश के सभी गांवों को सड़कों से जोड़ दिया जाएगा. ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क के नेटवर्क को बनाने के लिए सरकार ने एक प्लान तैयार किया है. सड़कों से जोड़ने के बाद गांव का तेजी से विकास होगा, स्थानीय लोग भी मुख्यधारा से जुड़ सकेंगे. दरअसल, उत्तराखंड में 5700 से अधिक ग्राम पंचायतें हैं जिसमें देहरादून, हरिद्वार, उधमसिंह नगर और नैनीताल के मैदानी क्षेत्रों को छोड़कर बाकी पर्वतीय क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में सड़कों की समस्याएं बनी हुई हैं. ऐसे में सरकार ने अब ग्राम पंचायत तक पहुंचने के लिए योजना तैयार की है.

प्रवासी उत्तराखंड वासियों के लिए अलग से बनेगा विभाग
प्रदेश में निवेश को लेकर सरकार ने एक ब्लू प्रिंट तैयार किया है. प्रवासी उत्तराखंड वासी आसानी से प्रदेश में निवेश कर सकें इसलिए अलग से एक विभाग तैयार किया जाएगा. सिंगल विंडो योजना के तहत प्रवासी उत्तराखंडी पर्यटन, कृषि, फूड प्रोसेसिंग के साथ कई अन्य क्षेत्रों में निवेश कर सकेंगे.

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा
अनाथालय में रहने वाले बच्चों की देखरेख के लिए मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा की गई है. सीएम रावत ने बताया कि अनाथालय में रहने वाले बच्चों से दुर्व्यवहार या किसी तरह की यातनाएं होती हैं, तो मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत उनकी देखरेख की जाएगी. योजना के तहत देहरादून, हरिद्वार, उधम सिंह नगर के साथ-साथ अन्य जिलों में रह रहे अनाथ बच्चों की देखरेख की जाएगी.

साधु संतों के शव को गंगा में नहीं किया जाएगा प्रवाहित
साधु-संतों के दाह संस्कार के लिए हरिद्वार में सरकार जमीन उपलब्ध कराएगी. अब साधु संतों के शव को गंगा में प्रवाहित नहीं किया जाएगा. सीएम रावत ने बताया कि सरकार ने साधु संतों के साथ इस मसले को लेकर बैठक की है. आम सहमति के बाद ही यह फैसला लिया गया है.