हर जिले में हों महिलाओं और बच्चों के लिए डेडिकेटेड हॉस्पिटल, CM योगी ने दिए ये निर्देश

उन्होंने कहा कि यहां 3 ऑक्सीजन प्लांट पहले से थे. इसके अलावा 8 प्लांट और मंजूर किये गए हैं. जो मंडल के जिलों में लगेंगे. ऑक्सीजन की आपूर्ति टैंकरों के माध्यम से यहां आसपास के क्षेत्रों में करवाई जा रही है. 

हर जिले में हों महिलाओं और बच्चों के लिए डेडिकेटेड हॉस्पिटल, CM योगी ने दिए ये निर्देश
सीएम योगी ने कोविड कंट्रोल सेंटर का दौरा किया.

मुरादाबाद: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड प्रबंधन को लेकर शनिवार को मुरादाबाद का दौरा किया. मंडल में मुरादाबाद और अमरोहा ऐसे जिले है, जिनमें पॉजिटिवटी रेट ज्यादा है. जहां उन्होंने कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकारी मशीनरी पूरी मजबूती के साथ कार्य कर रहे हैं. 

पिछले 8 दिनों में एक्टिव केस में आई 65 हजार की कमी
उन्होंने कहा कि पिछले 8 दिन में पूरे प्रदेश में 65 हजार एक्टिव केस कम हुए है. इसका असर मुरादाबाद में भी देखने को मिला है. कोविड प्रबन्धन की कार्य योजना में मुरादाबाद में भी 3500 केस कम हुए हैं. जहां 30 अप्रैल के 3 लाख से ऊपर के केस आज 8 दिन में लगातार कमी होती गई. इस दौर में संक्रमण तेजी से फैलते हुए देखने को मिला है. इसलिए इस दौर में रोगी को तुरन्त पहचान कर तत्काल उपचार करने की आवश्यकता है. इसके लिए बड़े पैमाने पर टेस्टिंग अभियान चलाया है. जिसमें रोजाना ढाई लाख औसत टेस्टिंग हो रही है. जो राज्यों में सबसे ज्यादा है.

69000 शिक्षक भर्ती: 5000 पदों पर जल्द होने वाली है भर्ती, जान लें सारी डिटेल्स

बच्चों और महिलाओं के लिए डेडिकेटेड हॉस्पिटल की हर जिले में हो व्यवस्था
सीएम योगी ने कहा कि हर जिलों में बच्चों और महिलाओं के लिए एक डेडिकेटेड हॉस्पिटल की व्यवस्था करने का निर्देश जारी किया. साथ ही नॉन कोविड मरीजों के लिए एक डेडिकेटेड हॉस्पिटल की भी व्यवस्था की जा रही है. होम आइसोलेशन, टेलिकन्सल्टेंसी, मेडिकल किट की जरूरतों,ऑक्सीजन की व्यवस्था,और एम्बुलेंस की व्यवस्था को मॉनिटरिंग और क्रियान्वयन के लिए भी मैन पॉवर को बढ़ाने के लिए भी कार्य किये जा रहे हैं. 

UP में दिखने लगा पाबंदियों का असर, एक हफ्ते में कम हुए 56,000 से अधिक एक्टिव केस

 

8 और ऑक्सीजन प्लांट हुए मंजूर
उन्होंने कहा कि यहां 3 ऑक्सीजन प्लांट पहले से थे. इसके अलावा 8 प्लांट और मंजूर किये गए हैं. जो मंडल के जिलों में लगेंगे. ऑक्सीजन की आपूर्ति टैंकरों के माध्यम से यहां आसपास के क्षेत्रों में करवाई जा रही है. साथ ही टेलिकन्सल्टेंसी की व्यवस्था सुचारू रूप से चलाने के लिए मॉनिटरिंग की जा रही है. वहीं, हर जिले में 108 की व्यवस्था जो है उसका उपयोग 50 फीसदी तक कोविड के लिए करने के निर्देश दिए गए हैं.

गांवों में चलाया जा रहा स्क्रीनिंग अभियान 
पंचायत चुनाव के बाद गांवों में कोरोना संक्रमण ना फैले. इसलिए ऐहतियात के तौर पर इस समय निगरानी समितियां 97 हजार राजस्व गांवों में स्क्रीनिंग अभियान के तहत कार्य कर रही है. जहां एंटीजन टेस्ट तत्काल हो रहे हैं. उन्होंने बताया कि अभी मैं मनोहरपुर गांव से होकर आ रहा हूं. मेडीकल किट के साथ दवाइयों को देने का काम तेजी से हो रहा है. 

सामूहिक प्रयास से मिलेगी जीत
उन्होंने कहा कि यह सामान्य बीमारी नहीं बल्कि आपदा है. आपदा में संसाधन की कमी दिखाई पड़ती है. बड़े-बड़े देश इस महामारी में पस्त होते जा रहे हैं. लेकिन राज्य सरकार केंद्र सरकार के सहयोग से इससे मजबूती से लड़ रहे हैं. जब सामूहिक प्रयास होते हैं तो आपदा पस्त होती है. 

कोविड से होने वाली मौत के आंकड़ों में यूपी की स्थिति बेहतर
24 करोड़ की आबादी वाला यह राज्य कोविड केसेज और कोरोना से होने वाली मौतों के मामले में देश में बेहतर स्थिति में है. मुख्यमंत्री योगी के बेहतर प्रबंधन, सख्ती और लगातार सक्रियता ने कोरोना के केसेज और इससे हुई मौतों के मामले को कम किया है. जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश देश में 14 वें स्थान पर है. 

आंकड़ों के हिसाब से 1 अप्रैल से यूपी में प्रति मिलियन के हिसाब से 3502 कोरोना के केस आए, जबकि 25 मौतें हुईं. वहीं, महज पौने दो करोड़ की आबादी के राज्य दिल्ली में उत्तर प्रदेश से 15 गुना ज्यादा मौतें हुई हैं. दिल्ली में एक अप्रैल से प्रति मिलियन 29683 केस, 358 मौतें हुईं. 

WATCH LIVE TV