close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

CM योगी ने अधिकारियों को दिए निर्देश, 'क्राइम-करप्शन पर जीरो टॉलरेंस कैसे हो इस पर काम करें'

सीएम योगी ने अधिकारियों के निर्देश दिए हैं, कि रोज एक घंटा यानि सुबह 9 बजे से 10 बजे तक लोगों के बीच में जाएं और उनकी समस्याओं के समाधान के लिए बैठे. उन्होंने कहा कि लोगों से मिलने से ही सही फीडबैक मिलेगा और इसलिए आम जनता से संवाद बहुत जरूरी है. 

CM योगी ने अधिकारियों को दिए निर्देश, 'क्राइम-करप्शन पर जीरो टॉलरेंस कैसे हो इस पर काम करें'
बैठक में साफ-सुथरे चुनाव के लिए अधिकारियों की तारीफ की और उन्हें बधाई दी. (फाइल फोटो)

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को डीएम और एसएसपी की बैठक में साफ-सुथरे चुनाव के लिए अधिकारियों की तारीफ की और उन्हें बधाई दी. उन्होंने बंगाल की तुलना करते हुए कहा कि वहां चुनाव के दौरान काफी हिंसा हुए पर उत्तर प्रदेश में ऐसा कोई वाक्या सामने नहीं आया. उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे अपने दायित्व का ईमानदारी पूर्वक निर्वहन करें क्राइम और करप्शन पर जीरो टॉलरेंस कैसे हो इस पर काम करें. 

सीएम योगी ने अधिकारियों के निर्देश दिए हैं, कि रोज एक घंटा यानि सुबह 9 बजे से 10 बजे तक लोगों के बीच में जाएं और उनकी समस्याओं के समाधान के लिए बैठे. उन्होंने कहा कि लोगों से मिलने से ही सही फीडबैक मिलेगा और इसलिए आम जनता से संवाद बहुत जरूरी है. सीएम योगी ने कहा कि गरीब की भाषा गलत हो सकती है लेकिन भाव गलत नहीं होते उन्हें समझने की जरूरत है.  

उन्होंने जिले से बाहर रहने वाले अधिकारियों को चेताया और कहा कि जिसकी जहां नियुक्ति हो वह वही निवास करें. जिले में नियुक्त अधिकारी जिले में, तहसील में नियुक्त अधिकारी तहसील में और ब्लॉक में नियुक्त अधिकारी ब्लॉक पर ही रहे. उन्होंने अधिकारियों से दो टूक कहा कि अगर ऐसा नहीं कर सकते तो, नियुक्ति को लेकर लिख कर दे दो कि फील्ड में नहीं रहना चाहते हैं 

उन्होंने सभी जिलों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि डीएम ये कोशिश करें कि रोज एक घंटा वह फील्ड में निरीक्षण में दें. कभी विद्यालय में कभी अस्पताल में कभी ब्लॉक में जाएं और वहां की समस्याओं को देखे.  

सीएम योगी ने पुलिस अधिकारियों से छोटे दिखने वाले अपराधों के प्रति भी संवेदनशील होकर काम करने को कहा. उन्होंने कहा कि लोग आपके पास मुसीबत में आते हैं. उस पर तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए, उसे अनदेखा करके उसके निराशा को और बढ़ाने में अपनी भूमिका नहीं निभानी चाहिए.