प्रवासियों के रूप में लौट रही प्रदेश की संपदा, अब और तेज होगा उत्तर प्रदेश का विकास: CM योगी

अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दूसरे राज्यों से आने वाले सभी लोगों और इनके परिजनों से अपील की है कि खुद आगे आकर अपने स्वास्थ्य की जानकारी दें. 

प्रवासियों के रूप में लौट रही प्रदेश की संपदा, अब और तेज होगा उत्तर प्रदेश का विकास: CM योगी
फाइल फोटो

लखनऊ: लॉकडाउन की वजह से घर वापस लौट रहे प्रवासियों को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की संपदा बताया है. उन्होंने कहा कि बीते 1 मार्च से अबतक करीब 20 लाख प्रवासी श्रमिक प्रदेश में वापस आए हैं. इनके बल पर अब प्रदेश का विकास और तेज होगा. जब ये लोग आर्थिक रूप से मजबूत होंगे तब प्रदेश अपने आप विकसित होने लगेगा. इसके लिए यूपी सरकार हर संभव प्रयास कर रही है.

गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि टीम 11 के साथ बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लॉकडाउन की समीक्षा की. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में एक्टिव केस से अधिक ठीक होकर घर जाने वालों की संख्या है. फिर भी हमें सतर्क व सुरक्षित रहते हुए बचाव करना है. हमारा निरंतर प्रयास है कि प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्था अधिक से अधिक मजबूत बने. जिससे आने वाले प्रवासी कामगारों व श्रमिकों के अलावा प्रदेश के हर नागरिक को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिले.

ये भी पढ़ें: UP के स्वास्थ्य मंत्री बोले- कोरोना से लड़ाई में एक कदम आगे है योगी सरकार, हर जिले में बनाएंगे टेस्टिंग लैब

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि सीएम योगी ने निर्देश दिया कि जनपद स्तर पर हर व्यक्ति को चिकित्सा सुविधा मुहैया करवाई जाए. हर मरीज को उसके इलाज के अनुसार L-1, L-2 और L-3 अस्पतालों की सुविधा उपलब्ध कराई जाए. उन्होंने बताया कि सीएम योगी के निर्देशों का पालन करते हुए स्वास्थ्य विभाग ने L-1, L-2 और L-3 अस्पतालों में बेड्स की संख्या में बड़ा इजाफा किया है. अब इन अस्पतालों को 78 हजार से अधिक बेड्स से लैस कर दिया गया है. आने वाले दिनों में इसे एक लाख तक करने का प्रयास किया जा रहा है.

अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दूसरे राज्यों से आने वाले सभी लोगों और इनके परिजनों से अपील की है कि खुद आगे आकर अपने स्वास्थ्य की जानकारी दें. जिससे इलाज सही समय पर शुरू किया जा सके. सीएम योगी ने इसके लिए ग्राम प्रधानों को भी विशेष रूप से जागरूक रहने का आह्वाहन किया है. उन्होंने बताया कि भारी संख्या में प्रवासियों के आने के कारण ही सीएम योगी ने स्वास्थ्य विभाग की टेस्टिंग क्षमता को और बढ़ाने का निर्देश देते हुए इसे प्रतिदिन 10 हजार सैंपल टेस्ट करने को कहा है. फिलहाल विभाग द्वारा लगभग 7 हजार टेस्ट हर दिन किया जा रहा है.

लगातार चलाई जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन
अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर उत्तर प्रदेश के लिए लगातार श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है. अबतक गुजरात से 355, महाराष्ट्र से 181, पंजाब से 144, राजस्थान से 28, दिल्ली से 36, कर्नाटक से 33 ट्रेन सहित कुल 1154 ट्रेनों की व्यवस्था की गई. इनमें से 841 ट्रेन आ गई हैं जबकि 313 आ रही हैं या फिर एक दो दिनों में पहुंचेंगी. उन्होंने बताया कि इन ट्रेनों के माध्यम से अबतक उत्तर प्रदेश में 15 लाख 27 हजार लोगों ने वापसी की है. अब दूसरे चरण में हरियाणा से 3982 बसों से 1 लाख 35 हजार, राजस्थान से 355 बसों से 13224 और मध्य प्रदेश से 1350 बसों से 49 हजार लोगों को लाया गया है. उन्होंने बताया कि 1 मार्च से अबतक 20 लाख लोग यूपी में आये हैं.

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दिल्ली से भी हर रोज 11 ट्रेनों को चलाया जा रहा है. जिसे भी दिल्ली से आना है वो स्थानीय प्रशासन से संपर्क करें. संपर्क कर उनके निर्देशों का पालन करें ऐसे में किसी को भी परेशानी नहीं होगी.

प्रदेश में 2130 एक्टिव केस, 3099 मरीज हुए स्वस्थ्य: प्रमुख सचिव स्वास्थ्य
प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में 11 मई से ही एक्टिव केस कम हैं और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा होने का क्रम जारी है. उन्होंने बताया कि वर्तमान में 2130 एक्टिव केस हैं. उपचार के बाद 3099 पेशेंट पूरी तरह स्वस्थ हो गए हैं और उन्हें घर भेज दिया गया है. हालांकि अबतक 127 लोगों की मौत भी हुई है. 2194 लोगों को आइसोलेशन में और 13,178 लोगों को क्वॉरंटीन में रखा गया है.

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के सर्विलांस में 85 हजार 471 टीमें लगी रहीं. इन टीमों ने 68 लाख 72 हजार 936 घरों का सर्वेक्षण किया. साथ ही 3 करोड़ 43 लाख 80 हजार 366 लोगों की जांच भी की. प्रवासी कामगार व श्रमिकों को होम क्वॉरंटीन में 21 दिनों तक रहने के लिए कहा गया है. होम क्वॉरंटीन में रहने वालों की जांच के लिए आशा वर्करों को भी तैनात किया गया है. आशा वर्करों द्वारा अबतक 5 लाख 42 हजार 543 लोगों की जांच की गई है. जांच के दौरान 46 हजार 142 सैंपल लिए गए. सैंपलों की जांच के बाद 1230 लोग कोरोना से संक्रमित मिले. ऐसे लोगों की रिपोर्ट पर स्वास्थ्य विभाग कार्रवाई कर रहा है.

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप से स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल रूम द्वारा 26 हजार 512 फोन कॉल किए गए. बातचीत के बाद लक्षणों के आधार पर इनमें से 401 लोगों को क्वॉरंटीन किया गया. जबकि 74 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए. जिनमें से 42 उपचारित होकर घर चले गए हैं.