close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

UP विधानसभा: विशेष सत्र से विपक्ष नदारद, CM योगी बोले- 'दुर्योधन की भूमिका निभा रहा विपक्ष'

UP Assembly: कार्यवाही की शुरुआत विधानसभा अध्यक्ष के भाषण से हुई. इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सदन को संबोधित किया. इस दौरान सीएम योगी ने 16 प्वाइंट का जिक्र किया. इसमें गरीबी और बुखमरी मेन मुद्दे हैं. 

UP विधानसभा: विशेष सत्र से विपक्ष नदारद, CM योगी बोले- 'दुर्योधन की भूमिका निभा रहा विपक्ष'
इस दौरान सीएम योगी ने 16 प्वाइंट का जिक्र किया.

लखनऊ: महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की 150वीं जयंती (Gandhi Jayanti) पर योगी सरकार (Yogi Government) ने यूपी विधानसभा (UP Assembly) का विशेष सत्र (Special Session) बुलाया है. ये विधानसभा सत्र 36 घंटे तक चलेगा. हालांकि विपक्ष ने इस विशेष सत्र से वॉक आउट कर दिया है. सत्र में विपक्ष का कोई भी नेता नजर नहीं आया है. बुधवार (02 अक्टूबर) सुबह 11 बजे से शुरू हुआ. विशेष सत्र तीन अक्टूबर की रात 11 बजे तक चलेगा.

कार्यवाही की शुरुआत विधानसभा अध्यक्ष के भाषण से हुई. इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सदन को संबोधित किया. इस दौरान सीएम योगी ने 16 प्वाइंट का जिक्र किया. इसमें गरीबी और बुखमरी मेन मुद्दे हैं. इसके अलावा मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए उसे दुर्योधन बताया. 

विशेष सत्र की शुरुआत के बाद सदन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छता के लिए 23 करोड़ उत्तर प्रदेश की जनता को मैं धन्यवाद देता हूं. स्वच्छ भारत मिशन देश के लिए आज एक जन आंदोलन बन गया है. प्लास्टिक मुक्त उत्तर प्रदेश के संकल्प के साथ आज सभी मंत्रियों ने 110 वार्डों में जागरूकता की है. 

2019 लोकसभा के चुनाव में जनता ने बता दिया है कि अब जातियां सिर्फ वोट के लिए नहीं हैं. अब सभी विकास के साथ हैं. इस वजह से विपक्ष तिलमिलाया हुआ है. जिन लोगों ने गांधी जी के नाम पर सत्ता चलाई, उनका गांधी जयंती के अवसर पर सदन का बहिष्कार करना शर्मशार है. जो विधायक अपनी विधानसभा को स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत अग्रणीय काम करता है उसको सम्मानित किया जाना चाहिए. 

विपक्ष पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि यूपी से गरीबी और भुखमरी को पूर्णतया समाप्त करना है.  अच्छा स्वास्थ्य और अच्छा जीवन, साफ-पानी, अच्छी शिक्षा, अच्छा काम और आर्थिक विकास के लक्ष्य को शामिल करना है. लेकिन दुर्भाग्य है विपक्ष दुर्योधन के महाभारत में कही उक्ति को चरितार्थ कर रहा है. गांधी जी के नाम पर सत्ता पाने वाले आज ऐसा अपमान कर रहे हैं. सतत विकास पर चर्चा करें, जिसमें सदन की विशेष भूमिका है. आज प्रस्ताव पर चर्चा है तो विपक्ष अनुपस्थित है.

लाइव टीवी देखें

आपको बता दें पहले 48 घंटे के विशेष सत्र का प्रस्ताव था, लेकिन बाद में उसे 36 घंटे कर दिया गया. सदन की कार्यवाही के लिए तीन अलग-अलग शिफ्ट में एमएलए और एलएलसी के ग्रुप बनाए गए हैं. कैबिनेट मंत्रियों को 15-15 मिनट, जबकि राज्यमंत्रियों को बोलने के लिए 10-10 मिनट का समय मिला है. विधानसभा सदस्यों के लिए चार-चार मिनट का समय निर्धारित है.