उत्तराखंड में एक हफ्ते के लिए बढ़ा कोविड कर्फ्यू, जानें चार धाम यात्रा के बारे में क्या है अपडेट?

राजस्व कोर्ट को भी खोलने की अनुमति मिली है. राजस्व के लंबित पडे मामलों को निपटाने के लिए 20 लोगों की सीमित संख्या के साथ राजस्व अदालतों को खोलने का निर्णय भी लिया गया है. नई SOP में टैम्पो और विक्रम संचालकों को भी राहत दी गई है.

उत्तराखंड में एक हफ्ते के लिए बढ़ा कोविड कर्फ्यू, जानें चार धाम यात्रा के बारे में क्या है अपडेट?
चार धाम यात्रा

देहरादून: उत्तराखंड सरकार ने कोविड कर्फ्यू (Covid Curfew) को एक और हफ्ते के लिए यानी 22 जून की सुबह छह बजे तक बढ़ा दिया है. अभी चार धाम यात्रा शुरू होने का मामला कोर्ट में विचाराधीन है, तो अभी फिलहाल यात्रा शुरू नहीं हो रही है.

शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने माना कि चारधाम यात्रा का मामला न्यायालय में विचाराधीन होने से फैसले में परिवर्तन किया गया है. चारधाम यात्रा को खोले जाने के संबंध में मामला न्यायालय में विचाराधीन है.16 जून को प्रदेश सरकार को न्यायालय में चारधाम यात्रा पर अपना पक्ष रखना है. इसके बाद ही सरकार चारधाम यात्रा के संबंध में निर्णय लेगी. 

SOP में इसका जिक्र ही नही

इससे पहले शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल की ओर से जानकारी दी गई कि कोविड की आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट की अनिवार्यता के साथ स्थानीय लोग अपने-अपने जिलों में धाम के दर्शन कर सकेंगे. लेकिन राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से कोविड कर्फ्यू को लेकर जो मानक प्रचालन प्रक्रिया जारी की गई, उसमें चारधाम यात्रा को सशर्त खोले जाने का जिक्र नहीं था.

न्यूज चैनल के पत्रकार की संदिग्ध हालत में मौत, शराब माफियाओं से जताया था जान का खतरा

टेम्पो, शादी समारोह और राजस्व कोर्ट को राहत
सरकारी प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि मार्केट पहले की तरह प्रतिबंधों के साथ हफ्ते में तीन दिन खोले जाएंगे. मिठाई की दुकानें सप्ताह में पांच दिन खुलेंगी. दुकानदारों की मिठाई खराब होने की परेशानी के चलते सरकार ने यह निर्णय लिया है. इसके अलावा शादी, समारोह में भी रियायत दी गई है. शादी समारोह में लोगों की संख्या 20 से बढ़ाकर 50 कर दी गई है, लेकिन यहां भी आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपेार्ट अनिवार्य होगी. 

इसके अलावा राजस्व कोर्ट को भी खोलने की अनुमति मिली है. राजस्व के लंबित पडे मामलों को निपटाने के लिए 20 लोगों की सीमित संख्या के साथ राजस्व अदालतों को खोलने का निर्णय भी लिया गया है. नई SOP में टैम्पो और विक्रम संचालकों को भी राहत दी गई है. टैम्पो और विक्रम संचालक पूरी कैपेसिटी के साथ सवारियां ले जा सकेंगे. बॉर्डर पर अब भी आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य रहेगी.

महामारी से जंग जारी
उन्होंने कहा कि कोविड के नए मामलों में गिरावट आने के बावजूद अभी महामारी से जंग जारी है और इसीलिए एक सप्ताह कर्फ्यू बढ़ाने का फैसला सरकार ने किया है. कोविड को हराने का संकल्प व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि 22 जून के बाद सरकार संभवत: अनलॉक की प्रक्रिया की तरफ बढ़ेगी. 

पहाड़ में चलीं  बंद पड़ी प्राइवेट बसें
कोविड कर्फ्यू में यात्री क्षमता कम होने और किराया दोगुना न करने के विरोध में बंद निजी बसें सोमवार से चलनी शुरू हो गईं. उत्तराखंड बस ऑपरेटर्स संयुक्त महासंघ ने यह निर्णय लिया.

हल्द्वानी में आज पूरे राजकीय सम्मान के साथ होगा कांग्रेस की दिवंगत नेता इंदिरा हृदयेश का अंतिम संस्कार

WATCH LIVE TV