उत्तराखंड की बेटी Sneh Rana ने इंग्लैंड के मुंह से छीनी जीत, डेब्यू टेस्ट में किया अनोखा कारनामा

भारतीय महिला टीम की हरफनमौला खिलाड़ा स्नेह राणा का जन्म 18 फरवरी, 1994 को उत्तराखंड के देहरादून में हुआ था. स्नेह के पिता बचपन से ही अपनी बेटी को क्रिकेटर बनाना चाहते थे. इसके लिए उनके पिता हर रोज उन्हें 12 किमी दूर क्रिकेट अकादमी में अभ्यास के लिए लेकर जाते थे. 

उत्तराखंड की बेटी Sneh Rana ने इंग्लैंड के मुंह से छीनी जीत, डेब्यू टेस्ट में किया अनोखा कारनामा
इमेज क्रेडिट ( BCCI)

नई दिल्ली: उत्तराखंड की बेटी स्नेह राणा ने अपने डेब्यू टेस्ट मैच में ही इतिहास रच दिया है. अपने पहले ही टेस्ट मैच में एक पारी में चार विकेट और 50 से अधिक रन बनाने वाली इंडिया की पहली खिलाड़ी बन गई हैं. साथ ही ऐसा करनामा करने वाली दुनिया की चौथी खिलाड़ी बन गई हैं.  

इंग्लैड के खिलाफ 16 जून को शुरू हुए इस मैच में मेजबान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था. पहली पारी में इंग्लैंड ने 9 विकेट के नुकसान पर 396 रन बनाए थे. पहली पारी में स्नेह राणा ने करिश्माई गेंदबाजी करते हुए विशाल स्कोर की तरफ बढ़ रही इंग्लैंड की कमर तोड़ दी. उन्होंने चार विकेट अपने नाम किए.  

154 गेंदों में खेली 80 रनों की पारी 
इंग्लैंड ने पहली पारी नौ विकेट पर 396 रन पर घोषित की थी. जवाब में भारतीय टीम पहली पारी में 231 रन पर सिमट गई. मेजबान ने टीम इंडिया को फॉलोऑन दिया. शीर्ष क्रम ने फिर भारत को अच्छी शुरुआत कराई, लेकिन मध्यक्रम फिर चरमरा गया. भारत ने लंच के बाद चार विकेट जल्दी गंवा दिये थे और इस दौरान केवल 28 रन जुड़े. 

भारत पर हार का खतरा मडराने लगा था, ऐसी स्थिति में अपना डेब्यू टेस्ट खेल रहीं ऑलराउंडर स्नेह राणा और विकेटकीपर तानिया भाटिया ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए नौवें विकेट के लिए 124 रन की नाबाद साझेदारी कर टीम को हार से बचा लिया. स्नेह राणा 154 गेंद में नाबाद 80 और तानिया भाटिया 88 गेंद में 44 रन बनाकर नाबाद रहीं. दोनों ने टीम को हार से बचाने के लिए हर संभव कोशिश की और नौवां विकेट नहीं गिरने दिया. अंत में मैच बराबरी पर समाप्त हुआ.

कौन है स्नेह राणा?
भारतीय महिला टीम की हरफनमौला खिलाड़ा स्नेह राणा का जन्म 18 फरवरी, 1994 को उत्तराखंड के देहरादून में हुआ था. स्नेह के पिता बचपन से ही अपनी बेटी को क्रिकेटर बनाना चाहते थे. इसके लिए उनके पिता हर रोज उन्हें 12 किमी दूर क्रिकेट अकादमी में अभ्यास के लिए लेकर जाते थे. 

स्नेह ने 2013 2014 में घरेलू मेचौं में बेहतरीन प्रदर्शन किया. जिसके बाद उनको 2014 में श्रीलंका के खिलाफ वनडे और टी20 डेब्यू करने का मौका मिला था लेकिन पदार्पण नहीं कर पाई थीं. इसके बाद साल 2016 में घुटने की चोट के कारण वो टीम से बाहर हो गईं. उन्हें घुटने का ऑपरेशन कराना पड़ा था. चोट से उबरने में उन्हें लंबा वक्त लगा लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. टीम में वापसी के लिए स्नेह पुरजोर मेहनत करती रहीं. 

टीम इंडिया में सिलेक्शन से पहले पिता का हो गया निधन 
उनके पिता बेटी को टीम इंडिया में वापसी कर दोबारा खेलते देखना चाहते थे. स्नेह ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करके टीम में वापसी की कहानी तो लिख दी. लेकिन, टीम के ऐलान से कुछ दिन पहले उनके पिता का आकस्मिक निधन हो गया.

Viral Video: चिपैंजी के बच्चे ने पानी से कछुए को निकाला बाहर, फिर उसके साथ किया...

दूल्हन नें शादी की मंडप में दूल्हे को सिंदूर लगाने से कर दिया मना, फिर VIDEO में देखें क्या हुआ

WATCH LIVE TV