कंगना रनौत के समर्थन में उतरे देवबंदी उलेमा, BMC की कार्रवाई को बताया शिवसेना का गुंडाराज

आपको बता दें कि शिवसेना के कब्जे वाली बीएमसी ने बुधवार दोपहर पाली हिल स्थित कंगना रनौत के दफ्तर का ​कुछ हिस्सा तोड़ दिया. इस बीच कंगना की याचिका पर सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने बीएमसी को कार्रवाई रोकने का आदेश देते हुए जवाब तलब कर लिया है. 

कंगना रनौत के समर्थन में उतरे देवबंदी उलेमा, BMC की कार्रवाई को बताया शिवसेना का गुंडाराज
​शिवसेना शासित बीएमसी की कार्रवाई के खिलाफ कंगना रनौत के समर्थन में उतरे देवबंदी उलेमा.

सहारनपुर: अभिनेत्री कंगना रनौत को देश भर में जबरदस्त समर्थन मिल रहा है. देवबंदी उलेमाओं ने भी शिवसेना की निंदा करते हुए अभिनेत्री को अपना समर्थन दिया है. उलेमाओं ने कहा कि शिवसेना शासित बीएमसी ने कंगना के दफ्तर पर जो कार्रवाई की है वे उसकी कड़े शब्दों में निंदा करते हैं. मौलाना मुस्तफा देहलवी ने कहा, ''यह शिवसेना का गुंडाराज है. कंगना रनौत के साथ ऐसा नहीं करना चाहिए था. अगर उनसे कोई शिकायत थी तो कानून का सहारा लेते. कानून के दायरे में करना चाहिए था. यह जो किया है यह सरासर गुंडाराज है. हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं''

BJP नेता के घर से लूटे 10 लाख, पुलिस ने की नाकाबंदी और 3 घंटे में कर दिया खुलासा

मौलाना देहलवी ने कहा कि शिवसेना ने पहले भी मुंबई में अपना गुंडाराज दिखाया है. कंगना रतौन के मकान को तोड़ना, उसके ऑफिस पर बुलडोजर चलाना यह मनमानी और गुंडाराज है. हम ऐसी हरकतों की अपनी तंजीम इत्तेहाद उलेमा ए हिन्द की तरफ से निंदा करते हैं. हिंदुस्तान में कानून बहुत मजबूत है, उनको चाहिए था कि कानून का सहारा लेते. शिवसेना से कहना चाहते हैं कि वह इस तरह की हरकतें छोड़ हिंदुस्तान में अमन-चैन और भाईचारे का पैगाम दे.

तय समय पर होगा उत्तराखंड विधानसभा का मानसून सत्र, MLAs को करवाना होगा कोरोना टेस्ट

आपको बता दें कि शिवसेना के कब्जे वाली बीएमसी ने बुधवार दोपहर पाली हिल स्थित कंगना रनौत के दफ्तर का ​कुछ हिस्सा तोड़ दिया. इस बीच कंगना की याचिका पर सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने बीएमसी को कार्रवाई रोकने का आदेश देते हुए जवाब तलब कर लिया है. इस मामले में 10 सितंबर को अगली सुनवाई होगी. बुधवार को ही हिमाचल से मुंबई पहुंची अभिनेत्री ने कंगना रनौत ने बीएमसी की इस कार्रवाई को शिवसेना का बदला बताया है.

WATCH LIVE TV