सोमवती अमावस्या के स्नान के दौरान 'कोरोना' भूले श्रद्धालु, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ीं धज्जियां

सावन महीने का आज तीसरा सोमवार है. इसके साथ ही आज सोमवती अमावस्या का भी पर्व है. हिंदू धर्म में इस दिन गंगा नदी में स्नान करके पूजा करने का अलग ही महत्व है. हालांकि इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के चलते ज्यादातर घाट सूने ही नजर आ रहे हैं.

सोमवती अमावस्या के स्नान के दौरान 'कोरोना' भूले श्रद्धालु, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ीं धज्जियां
प्रतीकात्मक फोटो

सावन महीने का आज तीसरा सोमवार है. इसके साथ ही आज सोमवती अमावस्या का भी पर्व है. हिंदू धर्म में इस दिन गंगा नदी में स्नान करके पूजा करने का अलग ही महत्व है. हालांकि इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के चलते ज्यादातर घाट सूने ही नजर आ रहे हैं. लेकिन कई जगहों पर श्रद्धालुओं में उत्साह इस कदर रहा कि वो कोरोना वायरस को मानो भूल बैठे.

कानपुर के सरसैया घाट पर उमड़ी भीड़ 
सावन महीने के तीसरे सोमवार को घाट पर स्नान करने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लग लग गया. इतनी भीड़भाड़ घाट पर देखने के बाद ऐसा लगा कि लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण भूल गया. नावों में बैठकर घाट पर स्नान कर रहे लोग सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे थे और कोरोना को खुली दावत दे रहे थे. 

सावन के तीसरे सोमवार के साथ सोमवती अमावस्या का संयोग, मंदिरों में दूर से ही महादेव के दर्शन 

चित्रकूट में भी श्रद्धालुओं को भूल गया कोरोना 
कोरोना संक्रमण के खौफ को दरकिनार रख सोमवती अमावस्या मेला पर्व पर चित्रकूट में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पैदल ही पहुंच गए. दो दिन के लॉक डाउन के बावजूद आज सुबह से ही चित्रकूट धाम में कामदगिरि परिक्रमा के लिए पैदल ही हजारों की संख्या में पहुंच लोग पहुंचे. हालांकि प्रशासन ने ज्यादातर लोगों को बैरंग लौटा दिया. 

WATCH LIVE TV