काशी विश्वनाथ मंदिर में ड्रेस कोड लागू, अब इन पारंपरिक कपड़ों में गर्भगृह में जा पाएंगे श्रद्धालु

बैठक में तय किया गया कि पुरुष धोती-कुर्ता और महिलाएं साड़ी पहनकर ही गर्भ गृह में स्पर्श दर्शन कर सकेंगी.

काशी विश्वनाथ मंदिर में ड्रेस कोड लागू, अब इन पारंपरिक कपड़ों में गर्भगृह में जा पाएंगे श्रद्धालु
पैंट-शर्ट, जीन्स, सूट, टाई कोट वाले पहनावा पर केवल दर्शन की व्यवस्था की जा रही है.

नवीन पांडेय/वाराणसी: काशी विश्वनाथ मंदिर (Shri Kashi Vishwanath Temple) में स्पर्श दर्शन के लिए अब ड्रेस कोड लागू हो गया है. काशी विद्वत परिषद की सोमवार को हुई बैठक में स्पर्श दर्शन और ड्रेस कोड संबंधित अहम फैसला लिया गया.

बैठक में तय किया गया कि पुरुष धोती कुर्ता और महिलाएं साड़ी पहनकर ही गर्भ गृह में स्पर्श दर्शन कर सकेंगी. दरअसल, काशी विश्वनाथ मंदिर में अभी तक श्रद्धालु दूर से ही बाबा का दर्शन कर पाते थे. जिसको ध्यान में रखते हुए इस तरह का फैसला लिया गया है कि अधिक से अधिक श्रद्धालु बाबा का स्पर्श दर्शन कर पाएं. स्पर्श दर्शन मध्यान आरती से पहले 11 बजे से पारम्परिक ड्रेस धोती कुर्ता और साड़ी में होगा. इसके अलावा पैंट-शर्ट, जीन्स, सूट, टाई कोट वाले पहनावे पर केवल दर्शन की व्यवस्था की जा रही है. उन्हें गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. देश के बाकी मंदिरों को ध्यान में रखते हुए इस तरह का फैसला किया गया है.

बता दें कि, बाबा विश्वनाथ का स्पर्श दर्शन सुबह मंगल आरती के बाद होता है और फिर शाम 4 से 5 बजे तक होता है. साथ ही स्पर्श दर्शन का समय भी एक घंटे से बढ़ाकर सात घंटे करने का निर्णय लिया गया है. इस फैसले को लेकर जो श्रद्धालु बाबा का स्पर्श दर्शन नहीं कर पाते थे, उन श्रद्धालुओ में उत्साह देखने को मिल रहा है.