प्रसिद्ध पूर्णागिरि मेले पर कोरोना का खौफ, भगवान भरोसे श्रद्धालुओं की जांच

विश्व प्रसिद्ध पूर्णागिरि मेले में कोरोना वायरस को लेकर अब तक बचाव के प्रबंध नहीं किए गए हैं

प्रसिद्ध पूर्णागिरि मेले पर कोरोना का खौफ, भगवान भरोसे श्रद्धालुओं की जांच
पूर्णागिरि मेले में कोरोना वायरस की जांच के इंतजाम नहीं

चंपावत/ललित मोहन भट्ट:  देश भर में कोराना वायरस से दहशत फैली हुई है. हर राज्य में इससे बचने के लिए पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने भी अलर्ट जारी किया है. लेकिन  टनकपुर में आयोजित विश्व प्रसिद्ध पूर्णागिरि मेले में कोरोना वायरस को लेकर अब तक बचाव के प्रबंध नहीं किए गए हैं.

चंपावत के टनकपुर में विश्व प्रसिद्ध पूर्णागिरि मेले का शुभारंभ हो गया है. आने वाले श्रद्धालुओं का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना वायरस से बचाव के लिए कोई पुख्ता प्रबंध नहीं किए गए हैं.  स्क्रीनिंग के लिए अभी तक डॉक्टरों की तैनाती नहीं की गई है.

ये भी पढ़ें: लखनऊ में कोरोना वायरस का पहला मामला आया सामने, कनाडा से लौटी थी महिला

पूर्णागिरि मेले में उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार सहित पड़ोसी देश नेपाल से भारी संख्या में लोग पहुंचते हैं. नेपाल के रास्ते कोरोना वायरस के भारत में संक्रमित होने की संभावना बनी हुई है. इंडो-नेपाल सीमा पर आवाजाही करने वाले लोगों की जांच भगवान भरोसे है.

जानकारी के मुताबिक डॉक्टरों की कमी के चलते प्रत्येक व्यक्ति की जांच नहीं हो पा रही है. इससे कोरोना वायरस के संक्रमित होने की संभावना बनी हुई है. बताया जा रहा है कि निदेशालय पत्र भेजने के बाद भी अतिरिक्त डॉक्टरों की टीम टनकपुर-बनबसा के लिए नहीं भेजी जा सकी है. माना जा रहा है कि कोरोना के खौफ से इस बार पूर्णागिरि मेला फीका पड़ सकता है.