close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महोबा: किसान को बैंक ने भेजा कर्ज वसूली का नोटिस, हार्ट अटैक से हुई मौत

किसान ने बैंक से दो लाख रुपये का कर्ज लिया था. जो चार लाख 20 हजार हो गया था.

महोबा: किसान को बैंक ने भेजा कर्ज वसूली का नोटिस, हार्ट अटैक से हुई मौत
(सांकेतिक तस्वीर)

राजेंद्र तिवारी/महोबा: बुंदेलखंड के महोबा में किसानों की मौतों का सिलसिला बदस्तूर जारी है. बैंक के कर्ज से परेशान एक किसान की रविवार को सदमे से मौत हो गई. केंद्र सरकार व राज्य सरकार लाख दावे करे कि सरकार किसानों के लिए गरीबों के लिए समर्पित है. लेकिन, आज भी महोबा के किसानों को जीने की जद्दोजहद में अपने प्राण देने पड़ रहे है. किसानों की आत्महत्या या फिर सदमे में हुई मौत का सिलसिला रुकने का नाम नही ले रहा है.

मामला महोबा जनपद के कुलपहाड़ तहसील क्षेत्र के कमालपुरा गांव का है. जहां किसान अनिल कुमार अपनी 18 बीघे जमीन पर खेती कर जीवन यापन कर रहे थे. अपनी कृषि के लिए किसान ने स्टेट बैंक कुलपहाड़ से 2 लाख 4 हजार का ऋण ले रखा था. लेकिन बुंदेलखंड में लगातार प्राकृतिक आपदाएं किसानों की फसलों को तबाह करती आ रही हैं. कभी सूखा तो कभी ओला तो कभी अतिवृष्टि से खराब हुई फसल किसानों को तंगहाली की जिंदगी जीने को मजबूर करती है. किसान अनिल का ऋण 4 लाख 24 हजार हो गया था. बैंक द्वारा घर भेजा गया नोटिस और नोटिस में 15 दिन का समय ऋण अदायगी के लिए दिया गया था. जिससे किसान अनिल कुमार चिंतित रहने लगा और इसी चिंता में बीती रात दिल का दौरा पड़ा, जिसमें किसान की मौत हो गई.

मृतक के भाई मनोज कुमार ने बताया कि मेरा भाई परेशान रहता था. 4 लाख 20 हजार रुपये बैंक का कर्ज देना था. बैंक ने नोटिस भेजा था. उन्होंने कहा कि फसलें खराब हो गईं, जिसके कारण सदमे में मौत हो गई. जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी ने बताया कि किसान अनिल कुमार की मौत हुई है. लेकिन जानकारी आई है कि किसान की तबीयत खराब थी. झांसी भी रेफर किया गया था. उसके ऊपर स्टेट बैंक का कर्ज भी था.