फर्रूखाबाद: कोविड-19 की जंग में रेलवे कोच बने आइसोलेशन वार्ड, स्टेशन पर पहुंचे 12 कोच

मरीजों के लिए बेड कम ना पड़े इसलिए रेलवे कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदलकर स्टेशनों पर खड़े किए जा रहे हैं. कोविड-19 के मरीजों को भर्ती करने के लिए रेलवे ने फर्रूखाबाद जंक्शन पर 12 आइसोलेशन कोच उपल्बध करा दिए हैं. ये सभी कोच COVID-19 के मरीजों के लिए हैं.  

फर्रूखाबाद: कोविड-19 की जंग में रेलवे कोच बने आइसोलेशन वार्ड, स्टेशन पर पहुंचे 12 कोच
प्रतीकात्मक फोटो

अरुण प्रताप सिंह/फर्रूखाबाद: कोरोना वायरस से जंग में भारतीय रेलवे एक मजबूत कंधा साबित हुआ है, रेलवे ने मुसीबत की इस घड़ी में पूरी जिम्मेदारी निभाई है. चाहे प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजना हो फिर जरूरी सामान एक जगह से दूसरी जगह तक ले जाना हो. इन सबके अलावा भी फर्रूखाबाद में भारतीय रेल के कोच को अस्पतालों में बदला जा रहा है, ताकि कोरोना से जंग में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी न हो. 

रेलवे कोच बने आइसोलेशन वार्ड 
मरीजों के लिए बेड कम ना पड़े इसलिए रेलवे कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदलकर स्टेशनों पर खड़े किए जा रहे हैं. कोविड-19 के मरीजों को भर्ती करने के लिए रेलवे ने फर्रूखाबाद जंक्शन पर 12 आइसोलेशन कोच उपल्बध करा दिए हैं. ये सभी कोच COVID-19 के मरीजों के लिए हैं.  

इसे भी देखिए: स्वदेशी की अपील ने दिया Idea, अब मोदी के 'चेहरे' से मिल रहा है कुम्हार को मुनाफा ही मुनाफा 

आपातकाल के लिए रेलवे कोच रिजर्व रखे गए
12 कोच की इस आइसोलेशन ट्रेन में अभी मरीजों को नहीं रखा जार रहा है. ये व्यवस्था तब के लिए है, जब फर्रूखाबाद में लेवल-1 और लेवल-2 अस्पताल पूरी तरह से भर जाएंगे. अभी रेलवे के टेक्नीशीयन इसमें जो भी कमियां हैं उसमें सुधार कर रहे हैं. ये रेल कोच नॉन एसी हैं ऐसी स्थिति में मरीजों को भी इस भीषण गर्मी में काफी दिक्कतें होंगी, उन दिक्कतों को दूर करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. 

जिले के एडीएम विवेक श्रीवास्तव का कहना है कि उनको रेलवे की तरफ से आइसोलेशन कोच उपलब्ध कराए गए हैं, जो पूरी तरह तैयार हैं. जैसे ही जिले के लेवल-1 और 2 अस्पतालों में मरीज बढ़ेंगे, हम आइसोलेशन कोच का इस्तेमाल करेंगे. आपको बता दें की पूरे प्रदेश को रेलवे की तरफ से 372 आइसोलेशन कोच उपल्बध कराए गए हैं. जिन्हें अलग-अलग जिलों में आवश्यकतानुसार भेजा गया है. 

WATCH LIVE TV