close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हमीरपुर: कर्ज के 'मकड़जाल' ने खत्म की किसान की जिंदगी, फांसी लगाकर दे दी जान

बताया जा रहा है कि कर्ज वापसी का दबाव और इस साल अतिवर्षा से फसल खराब होने से परेशान होकर किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. 

हमीरपुर: कर्ज के 'मकड़जाल' ने खत्म की किसान की जिंदगी, फांसी लगाकर दे दी जान
किसान द्वारा आत्महत्या किये जाने की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है.

रवींद्र निगम/हमीरपुर: बुंदेलखंड मे कर्ज के मर्ज में जकड़े किसानों की आत्महत्या का सिलसिला रुकने का नाम नही ले रहा है. कभी सूखा तो इस साल अति वर्षा ने किसानों की फसल बर्बाद कर किसानों की कमर तोड़ दी है. कर्ज वापसी का दबाव और खराब हो गई फसल किसानों को फांसी के फंदे में झूलने को मजबूर कर रही है. ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में सामने आया है. यहां तिली की फसल बर्बाद हो जाने और बैंक वा साहूकारों के कर्ज से परेशान 48 वर्षीय किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. 

घटना की जानकारी मिलते ही इलाके में सनसनी फैल गई और लोगों के बीच हड़कंप मच गया. किसान की आत्महत्या से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है. फिलहाल पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी है. दरअसल, हमीरपुर जिले में सुमेरपुर थाने के सौखर गांव के मृतक किसान राम खिलावन वर्मा  के पास कुल सात बीघा खेती है. उसने पिछले साल ही नातिन की शादी की थी, जिसमें उसने साहूकारों से कर्जा ले रखा था. बैंक और साहूकारों का मिलाकर उसके ऊपर 5 लाख रुपयों का कर्जा था. 

कर्ज वापसी का दबाव और इस साल अतिवर्षा से उसकी तिली की फसल खराब हो गई थी. बताया जा रहा है कि इसी से परेशान होकर किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. किसान द्वारा आत्महत्या किये जाने की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है.