close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खुशखबरी... संघर्ष के बाद आशियाने का सपना होगा पूरा, आज से शुरू होगी फ्लैट्स की रजिस्ट्री

Greater Noida Authority: पहले कैंसल प्रोजेक्ट के खरीदारों का वेरिफिकेशन होगा और फिर लेजर वैली के बायर्स के डॉक्यूमेंट लिए जाएंगे. इन प्रोजेक्ट्स के तहत बने घरों में पहले से ही बायर्स रहते हैं. इन दोनों प्रोजेक्ट में करीब 450 घरों में बायर्स रह रहे हैं, जिनकी रजिस्ट्री सुप्रीम कोर्ट ने उनके नाम करने का आदेश दिया है. 

खुशखबरी... संघर्ष के बाद आशियाने का सपना होगा पूरा, आज से शुरू होगी फ्लैट्स की रजिस्ट्री
फाइल फोटो

नई दिल्ली: आम्रपाली प्रोजेक्ट्स (Amrapali Project) में घर खरीदकर परेशान हो रहे बायर्स (Buyers) के लिए खुशखबरी है, क्योंकि आम्रपाली के कैंसल और लेजर वैली के फ्लैट्स की रजिस्ट्री (Registry) अब खरीदारों के नाम से हो सकेगी. ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण (Greater Noida Authority) की टीम इस मामले में वेरिफिकेशन (Verification) आज (03 अक्टूबर) से ही शुरू कर देगी.

जानकारी के मुताबिक, पहले कैंसल प्रोजेक्ट के खरीदारों का वेरिफिकेशन होगा और फिर लेजर वैली के बायर्स के डॉक्यूमेंट लिए जाएंगे. इन प्रोजेक्ट्स के तहत बने घरों में पहले से ही बायर्स रहते हैं. इन दोनों प्रोजेक्ट में करीब 450 घरों में बायर्स रह रहे हैं, जिनकी रजिस्ट्री सुप्रीम कोर्ट ने उनके नाम करने का आदेश दिया है. 

दरअसल, ग्रेटर नोएडा में आम्रपाली के दो प्रोजेक्टों के फ्लैटों में खरीदार रहते हैं. एक सेक्टर चाई-फाई स्थित आम्रपाली कैसल और दूसरा ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित आम्रपाली लेजर वैली. इन दोनों प्रोजेक्ट में करीब 450 घरों में खरीदार रहते हैं. प्राधिकरण ने ओएसडी संतोष कुमार को इन दोनों प्रोजेक्ट की रजिस्ट्री के लिए नोडल अफसर बनाया गया है.

लाइव टीवी देखें

ग्रेटर नोएडा में आम्रपाली के छह प्रोजेक्ट हैं. पहला- लेजर वैली वन, दूसरा-लेजर वैली टू, तीसरा-स्मार्ट सिटी, चौथा- ड्रीम वैली और पांचवां सेंचुरियन पार्क है. इनमें करीब 32 हजार फ्लैट शामिल हैं. इनमें से करीब 450 फ्लैट/विला की रजिस्ट्री अब होने जा रही है. 

रजिस्ट्री के लिए इन दस्तावेज़ों की होगी जरूरत 
- कोर्ट रिसीवर की ओर से जारी ऑथराइजेशन लेटर की मूल कॉपी
- बिल्डर की ओर से दिए गए आवंटन पत्र की फोटोकॉपी
- प्रोसेसिंग फीस के रूप में 1000 रुपये जमा करने के चालान की मूल कॉपी
- आवंटी के बैंक से अटेस्टेड फोटो और हस्ताक्षर की मूल कॉपी
- आवंटी के आधार कार्ड और पैन कार्ड की सेल्फ़ अटेस्टेड कॉपी
- 10 रुपये के स्टांप पेपर पर नोटरी से सत्यापित शपथ पत्र
- UP अपार्टमेंट एक्ट के तहत फार्म B
- 2 गवाह और उनके 3 फोटो
- आवंटी और कोर्ट रिसीवर के हस्ताक्षर वाले त्रिपक्षीय सब लीज के 3 सेट
- सब रजिस्ट्रार दफ्तर की तरफ से तय स्टांप शुल्क

यह वीडियो भी देखें: