गौतमबुद्ध नगर: अब नोएडा सेक्टर-18 के बाजार में जाएं तो पार्किंग का ये नियम जान लें वरना होगी मुश्किल

प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक जिन सड़कों पर वाहनों की भीड़ से जाम की स्थिति बनी रहती है, सबसे पहले उन्हें सरफेस पार्किंग से मुक्त कराया जाएगा. सरफेस पार्किंग खत्म करने की तैयारियों के बीच बाजार के व्यापारियों में रोष पनप रहा है. 

गौतमबुद्ध नगर: अब नोएडा सेक्टर-18 के बाजार में जाएं तो पार्किंग का ये नियम जान लें वरना होगी मुश्किल
नोएडा सेक्टर-18

गौतमबुद्ध नगर: नोएडा के सेक्टर-18 बाजार में बेतरतीब पार्क किए हुए वाहनों की चिकचिक अब खत्म होने वाली है. अब प्राधिकरण की ओर से सीधा आदेश है कि सेक्टर-18 में बनाई गई मल्टीलेवल पार्किंग में ही गाड़ियों को खड़ा किया जाए. अगर पार्किंग का ये नियम आप भूलेंगे तो आपकी जेब पर ये भारी पड़ेगा, क्योंकि इससे चालान भी कट सकता है. नोएडा अथॉरिटी ने आज यानि 27 जुलाई से ही नोएडा के सेक्टर 18 को पूरी तरह से नो पार्किंग जोन बनाने की कवायद शुरू कर दी है.

मल्टीलेवल पार्किंग के लिए होगा शुल्क 
फिलहाल मल्टीलेवल पार्किंग को एक हफ्ते के लिए निशुल्क रखा गया है, जिसके बाद इसमें पार्किंग शुल्क वसूला जाएगा. पहले चरण में सेक्टर-18 मेट्रो स्टेशन से सावित्री मार्केट और अंडरपास के नजदीक सर्विस रोड से पार्किंग हटाई जाएगी. मल्टीलेवल कार पार्किंग में वाहनों को खड़ा कराया जाएगा. अगले सप्ताह से यहां पार्किंग शुल्क भी वसूला जाएगा. प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक जिन सड़कों पर वाहनों की भीड़ से जाम की स्थिति बनी रहती है, सबसे पहले उन्हें सरफेस पार्किंग से मुक्त कराया जाएगा. मेट्रो स्टेशन से सवित्री मार्केट और सर्विस रोड वाली लेन में दुकानें कम हैं, जबकि बड़े-बड़े कांप्लेक्स में कार्यालय ज्यादा हैं. इन कांप्लेक्स के नक्शों में पार्किंग का प्रावधान है, लेकिन लगभग सभी भवनों में पार्किंग स्पेस को खत्म कर दुकान या कार्यालय बनाकर बेच दिए गए, जिससे सड़क पर जाम लगा रहा है. इसे ध्यान में रख पहले चरण में इसी एरिया में सरफेस पार्किंग हटाई जाएगी. 

मल्टीलेवल पार्किंग से बाजार तक ई-रिक्शा
दुकानदारों व ग्राहकों की सहूलियत के लिए फिलहाल 10 ई-रिक्शा की व्यवस्था मल्टीलेवल कार पार्किंग से मेट्रो स्टेशन और बाजार के अलग-अलग ब्लॉक के लिए की जाएगी. जब तक मल्टीलेवल कार पार्किंग के टेंडर जारी नहीं होंगे, तब तक बॉटेनिक गार्डन और फिल्म सिटी के लिए चयनित की गई एजेंसी को ही इसका जिम्मा दिया गया है. इससे पहले DLF कंपनी के पास पार्किंग का जिम्मा था. डीएलएफ ने पार्किंग को सरेंडर कर दिया है. 

इसे भी देखें: प्रधानमंत्री मोदी आज नोएडा में करेंगे आधुनिक लैब का उद्घाटन, जानिए क्या हैं सुविधाएं 

भूमिगत पार्किंग भी एजेंसी के हवाले
प्राधिकरण ने सेक्टर-1, 3 व सेक्टर-5 की भूमिगत पार्किंग को भी ठेकेदार के हवाले कर दिया है.वर्ल्ड क्लास नाम की कंपनी को इसका जिम्मा सौंपा गया है. एक अगस्त को बॉण्ड जारी होने के बाद एजेंसी पार्किंग शुल्क की वसूली शुरू कर देगी.

व्यापारियों सरफेस पार्किंग खत्म करने से गुस्सा 
सरफेस पार्किंग खत्म करने की तैयारियों के बीच बाजार के व्यापारियों में रोष पनप रहा है. व्यापारियों के मुताबिक पहले से ही ज्यादा ग्राहक दुकानों पर नहीं आ रहे है, ऐसे हालात में सरफेस पार्किंग हटाना और पार्किंग शुल्क वसूलना बाजार के लिए घातक साबित होगा. व्यापारियों से सुझाव लेकर ही कोई कदम उठाया जाए और शुल्क कम वसूला जाए. 

जान लीजिए पार्किंग शुल्क भी 
पार्किंग के लिए पुराना शुल्क ही लागू हो सकता है. इसके मुताबिक चारपहिया वाहनों के लिए पहले एक घंटे -30 रुपये और प्रति घंटा -10 रुपये का प्रावधान है. वहीं दोपहिया वाहनों के लिए पहले एक घंटे 20 रुपये और प्रति घंटा 10 रुपये का प्रावधान है. 

WATCH LIVE TV