गौतमबुद्ध नगर में गैंगस्टर्स की संपत्तियों पर पुलिस की नजर, कुर्की की कार्रवाई जारी

पुलिस ने शाहबेरी में अवैध निर्माण करने वाले बिल्डर्स पर 77 केस दर्ज किए थे. इनमें जसबीर मान समेत दो बिल्डर्स पर रासुका भी लगाया गया था. 19 केस में गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की गई थी. इनमें से ही 8 गैंगस्टर बिल्डर्स पर पुलिस ने अब शिकंजा कसा है.

गौतमबुद्ध नगर में गैंगस्टर्स की संपत्तियों पर पुलिस की नजर, कुर्की की कार्रवाई जारी
file photo

गौतमबुद्ध नगर: कानपुर कांड के बाद उत्तर प्रदेश के हर जिले में पुलिस गैंगस्टर्स के खिलाफ लगातार अभियान चला कर उनकी सम्पतियों को तलाश रही है. इसी सिलसिले में गौतमबुद्ध नगर में शाहबेरी के 8 गैंगस्टर बिल्डर्स की 17.25 करोड़ की संपत्ति कुर्क की गयी है. कुर्क हुई संपत्तियों में 31 से ज्यादा फ्लैट और 25 से ज्यादा दुकानें शामिल हैं. 

19 बिल्डर्स पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई 
पुलिस ने शाहबेरी में अवैध निर्माण करने वाले बिल्डर्स पर 77 केस दर्ज किए थे. इनमें जसबीर मान समेत दो बिल्डर्स पर रासुका भी लगाया गया था. 19 केस में गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की गई थी. इनमें से ही 8 गैंगस्टर बिल्डर्स पर पुलिस ने अब शिकंजा कसा है. 
इस मामले में डीसीपी सेंट्रल जोन हरिश्चंद्र ने बताया कि शाहबेरी में अवैध रूप से भवन निर्माण करने वाले आरोपी बिल्डर्स पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की गई थी. अब इनमें से 8 बिल्डर्स की 17.25 करोड़ की संपत्ति कुर्क की गई है। अपराधियों के खिलाफ आगे भी कार्रवाई जारी रहेगी.

इन 8 गैंगस्टर बिल्डर्स की संपत्तियां कुर्क
पुलिस ने कैला भट्टा गाजियाबाद निवासी फुरकान, नई दिल्ली निवासी फुरकान, हापुड़ निवासी फुरकान, दिल्ली के नितिन, गाजियाबाद के आशीष, शाहबेरी के अनीस, बिसरख के अबरार, गौड़ सिटी-1 निवासी कान्हा वत्स की 17.25 करोड़ की चल अचल संपत्ति कुर्क की है.

इसे भी देखें: भूमिपूजन के कार्यक्रम को लेकर अयोध्या से सटे बस्ती मंडल में भी हाई अलर्ट 

गौरतलब है की शाहबेरी में 17 जुलाई 2018 को दो इमारतें गिरने से दबकर नौ लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर पुलिस ने प्राधिकरण के अधिकारियों की शिकायत पर एक के बाद एक 77 केस दर्ज किए थे. आरोप है कि बिल्डर्स ने यहां उस दौरान तैनात रहे अफसरों की शह पर बिना नक्शा पास कराए और प्राधिकरण की अनुमति के बिना न केवल फ्लैट बनाए. बाद में उन्हें प्राधिकरण से अनुमति प्राप्त बताकर सैकड़ों लोगों को बेच दिए. 

WATCH LIVE TV