close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गाजियाबाद: प्रशासन ने सील किया हज हाउस, NGT ने दिया आदेश

जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि हज हाउस में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट नहीं था. 

गाजियाबाद: प्रशासन ने सील किया हज हाउस, NGT ने दिया आदेश
सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगने के बाद ही खुल सकेगा हज हाउस..(फोटो साभार: ट्विटर)

गाजियाबाद: गाजियाबाद में समाजवादी सरकार के समय बनाया गए हज हाउस को जिला प्रशासन ने मंगलवार को सील कर दिया. प्रशासन ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के आदेश पर इसे सील किया है. जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि हज हाउस में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट नहीं था. हिंडन नदी में इससे निकलने वाला गंदा पानी भूजल और हिंडन नदी के जल को गंदा कर रहा था. प्रशासन का कहना है कि सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के लगने के बाद हज हाउस खुल सकेगा.

सपा सरकार में जब अखिलेश यादव मुख्यमंत्री थे तब वह हिंडन नदी के किनारे बने इस हज हाउस के उद्घाटन के लिए आए थे. उस समय उनके साथ आजम खान भी आए थे. अखिलेश ने हज हाउस को भी एक उपलब्धि के रूप में गिनाया था. हालांकि उस समय इसमें यह कमी रह गई थी लेकिन तब से इसी हज हाउस को खोलने को लेकर विवाद चलता रहा है. यह हज हाउस कभी भी खुल नहीं पाया और अब इसे सील कर दिया गया है. 

सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाना आसान नहीं 
सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाना आसान नजर नहीं आ रहा लेकिन जब भी यह सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगेगा उसके बाद ही इसे खोला जा सकेगा. इससे पहले जैसे ही हज यात्रियों की सब्सिडी बंद करने का मामला सामने आया था तब भी भाजपा सरकार पर कई तरह के राजनीतिक आरोप लगाए गए थे. हज हाउस पर आजम खान कई बार आते रहे हैं. हालांकि शुरुआती दौर में ही एनजीटी में एक याचिका भी डाली गई थी जिसमें यह कहा गया था कि प्रदूषण के मानकों पर हज हाउस खरा नहीं उतर रहा है. 

हज हाउस गिराने की मांग वाली याचिका खारिज
इससे पहले, सोमवार को एनजीटी ने उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में हज यात्रियों के लिए बनी इमारत को ध्वस्त करने की मांग वाली एक अर्जी खारिज कर दी दी थी और कहा है कि ढांचा हिंडन नदी के बाढ़ क्षेत्र में नहीं आता. एनजीटी के कार्यवाहक अध्यक्ष न्यायमूर्ति यू डी साल्वी (सेवानिवृत्त) ने गाजियाबाद के एक निवासी की ओर से दायर याचिका खारिज कर दी थी. याचिकाकर्ता ने यह दावा करते हुए याचिका दायर की थी कि जिस जमीन पर हज हाउस का निर्माण हो रहा है वह गाजियाबाद के अर्थला गांव के राजस्व रिकार्ड में हिंडन नदी के तौर पर दर्ज है.