मुरादनगर: श्मशान घाट में गिरी 'करप्शन' की छत, 18 लोगों की मौत का जिम्मेदार कौन?
X

मुरादनगर: श्मशान घाट में गिरी 'करप्शन' की छत, 18 लोगों की मौत का जिम्मेदार कौन?

यह दर्दनाक हादसा भ्रष्टाचार का नतीजा बताया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक अजय त्यागी नाम के कॉन्ट्रैक्टर ने श्मशान घाट के निर्माण का जिम्मा लिया था.

मुरादनगर: श्मशान घाट में गिरी 'करप्शन' की छत, 18 लोगों की मौत का जिम्मेदार कौन?

गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक दिल दहला देने वाला हादसा हुआ है. जिले के मुरादनगर कस्बे में रविवार सुबह श्मशान घाट में अंतिम संस्कार करने गए लोग एक बड़े हादसे का शिकार हो गए. बारिश के चलते श्मशान घाट में निर्माणाधीन भवन की छत भरभरा कर गिर पड़ी, जिसमें कई लोग दब गए. इस हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई है. हांलाकि NDRF, डॉग स्क्वॉयड और रेस्क्यू टीम की मदद से 3-3.30 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन में 38 लोगों को बचा कर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इनमें से भी कुछ लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है. बता दें, परिजन का दाहसंस्कार करने पहुंचे लोग बारिश से बचने के लिए श्मशान घाट के निर्माणाधीन भवन में खड़े थे. बारिश के चलते ही भवन की छत उन पर आ गिरी. बताया जा रहा है कि कॉन्ट्रैक्टर ने भवन बनाने के लिए घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया था.

ये भी देखें: PHOTOS: बाराबंकी के कुम्हारों को अब मिलेगी पहचान, 'माटी कला बोर्ड' करेगा इंटरनेशनल ब्रांडिंग

परिजनों को 2-2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता 
इस हादसे पर दुख जताते हुए सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दुख जताया है. साथ ही, सीएम ने मृतकों के आश्रितों को 2-2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने के भी निर्देश दिए हैं और मण्डलायुक्त मेरठ और एडीजी मेरठ जोन को घटना के संबंध में रिपोर्ट पेश करने को भी कहा है. 

ये भी देखें: Achievement: आरुषि निशंक ने बढ़ाई देश की शान, चुना गया 'अर्थ डे नेटवर्क स्टार'

ठेकेदार पर अनियमितता का आरोप
यह दर्दनाक हादसा भ्रष्टाचार का नतीजा बताया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक अजय त्यागी नाम के कॉन्ट्रैक्टर ने श्मशान घाट के निर्माण का जिम्मा लिया था. यह भी जानकारी मिली है कि निर्माण के दौरान मुरादनगर नगर पालिका में कोई जेई नहीं था. इसलिए मोदीनगर नगर पालिका से अटैच जेई चंद्र पाल सिंह की देख रेख में कॉरिडोर का निर्माण कार्य हुआ था. बताया जा रहा है कि इस भवन को बनाने में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया था. ग्रामीणों का कहना है कि हल्की गुणवत्ता के उपकरणों के इस्तेमाल से भवन इतना कमजोर था कि उसकी छत गिर गई. इस हादसे के लिए ठेकेदार को जिम्मेदार बताया जा रहा है. उस पर आरोप है कि अनियमितता बरतने की वजह से ही यह हादसा हुआ है. सीएम योगी ने खुद संज्ञान लेकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. जल्द हादसे के असल आरोपी का पता लगाया जाएगा.

WATCH LIVE TV

Trending news