गाजीपुर: UP की मिट्टी से गायब हो रही नाइट्रोजन, बंजर होने के कगार पर खेत!

परीक्षण में ‘कार्बन’ की स्थिति सही नहीं पाई गई. जनपद के पांच ब्लाकों में यह न्यून श्रेणी में है. फास्फोरस और पोटाश मध्यम श्रेणी में है. 

गाजीपुर:  UP की मिट्टी से गायब हो रही नाइट्रोजन, बंजर होने के कगार पर खेत!
गाजीपुर जनपद के सभी ब्लाकों में कार्बन 'न्यून' (लो) पाया गया. इसका खुलासा मृदा परीक्षण में हुआ. (फाइल फोटो)

गाजीपुर: खेतों से ऑर्गेनिक कार्बन नाइट्रोजन तेजी से घट रहा है, जिसकी वजह से किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. खबर गाजीपुर से हैं. नाइट्रोजन के गायब होने की वजह से खेतों में जरूरत से ज्यादा रसायनिक खादों का इस्तेमाल हो रहा. फास्फोरस और पोटाश आदि तत्व भी कम हो रहे हैं. गाजीपुर जनपद के सभी ब्लाकों में कार्बन 'न्यून' (लो) पाया गया. इसका खुलासा मृदा परीक्षण में हुआ. 

परीक्षण में ‘कार्बन’ की स्थिति सही नहीं पाई गई. जनपद के पांच ब्लाकों में यह न्यून श्रेणी में है. फास्फोरस और पोटाश मध्यम श्रेणी में है. वहीं, उप कृषि निदेशक यूपी सिंह ने बताया कि नाइट्रोजन की कमी से फसल कमजोर और पीली पड़ जाती है. दाना सिकुड़कर हल्का हो जाता है और जड़ कमजोर होने से पौधा झुकने लगते है. 

इसी की वजह से उत्पादन में गिरावट आने लगती है. फास्फोरस और पोटाश भी न्यून होने पर खेत बंजर की श्रेणी में आ जाता है. मिट्टी से पोषकतत्व गायब हो रहे हैं. यह स्थिति जमीन को बंजर की कगार पर पहुंचाने वाली है. उन्होंने बताया कि खाद और रसायन के अंधाधुंध इस्तेमाल से यह स्थिति पैदा हुई है.

लाइव टीवी देखें

जब इस मुद्दे पर किसानों से बात की गई तो किसानों का साफ तौर पर कहना है कि खेतों में ऑर्गेनिक कार्बन नाइट्रोजन घट रहा है, जिसकी वजह से खेत बंजर हो जाता है और किसानों को काफी नुकसान होता है. किसानों का कहना है कि उन्होंने अपने-अपने खेतों की जांच कराने के लिए कृषि विभाग को अवगत करा दिए हैं और जांच हो जाने के बाद ही हम लोग खेती करेंगे.