छेड़छाड़ से तंग आकर फांसी में झूली छात्रा, सुसाइड नोट में लिखा, 'आरोपी को सजा जरूर दिलाना'

आरोप है कि उसी के गांव का रहने वाला युवक सचिन ने उसके साथ छेड़छाड़ की थी. छेड़छाड़ की घटना के बाद छात्रा काफी डरी हुई थी और बदनामी के डर से उसने आत्महत्या कर ली.

छेड़छाड़ से तंग आकर फांसी में झूली छात्रा, सुसाइड नोट में लिखा, 'आरोपी को सजा जरूर दिलाना'
फाइल फोटो

देहरादून, (संदीप गुसाईं): देहरादून में छेड़छाड़ से तंग आकर 19 वर्षीय छात्रा ने आत्महत्या कर ली. आत्महत्या की घटना से एक बार फिर महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को लेकर लोगों में जबरदस्त आक्रोश बढ़ गया है. बुधवार देर शाम उत्तरकाशी की रहने वाली छात्रा ने देहरादून के बकरालवाला स्थित अपने किराए के मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. घटना के बाद से लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है.  

आरोप है कि उसी के गांव का रहने वाला युवक सचिन ने उसके साथ छेड़छाड़ की थी. छेड़छाड़ की घटना के बाद छात्रा काफी डरी हुई थी और बदनामी के डर से उसने आत्महत्या कर ली. मृतका ने एक सुसाइड नोट भी लिखा है, जिसमें उसने आरोपी को सख्त सजा देने की मांग की है. छात्रा अपने दोनों भाइयों और माता-पिता से सुसाइड नोट में माफ करने और छेड़छाड़ की घटना का जिक्र किया है. 

छात्रा देहरादून में अपने दो भाइयों के साथ किराये के मकान में रहती थी और एमकेपी कॉलेज में स्नातक की पढ़ाई कर रही थी. पुलिस इस पूरे घटना की जांच कर रही है. आरोपी को पकड़ने के लिए उत्तरकाशी भी टीम भेजी जा रही है. एसपी सिटी प्रदीप राय ने कहा कि इस घटना की जांच की जा रही है और आरोपी को पकड़ने के लिए उत्तरकाशी भी पुलिस की एक टीम को भेजा गया है.  

घटना के बाद से लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है. महिलाओं की सुरक्षा को लेकर लगातार खड़े हो रहे सवालों पर लोगों को कहना है कि ऐसी घटनाओं के लिए सिस्टम भी जिम्मेदार है. क्योंकि दोषियों को सजा मिलती ही नहीं है.  

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है. जिस पुलिस को बेटियों की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी है. वो कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को धमका रही है. उन्होंने कहा कि राज्य गठन के बाद ये पहला मौका है, जब महिलाओं पर अत्याचार की घटना इतनी तेजी से बढ़ी हैं.