close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गोवर्धन परिक्रमा संरक्षणः SC ने NGT के आदेशों के खिलाफ UP सरकार की याचिका पर जल्द सुनवाई से किया इनकार

सुप्रीम कोर्ट के समक्ष उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट के समक्ष सोमवार को एडिशनल एडवोकेट जनरल ऐश्वर्या भाटी ने मामले की मेंशनिंग करते हुए इसकी जल्द सुनवाई की मांग की थी.

गोवर्धन परिक्रमा संरक्षणः SC ने NGT के आदेशों के खिलाफ UP सरकार की याचिका पर जल्द सुनवाई से किया इनकार
सुप्रीम कोर्ट इस मामले में 2 अगस्त को सुनवाई करेगी. (फाइल फोटो)

मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में गोवर्धन कस्बे में स्थित गिरिराज पर्वत परिक्रमा के संरक्षण के एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार की NGT के आदेशों के खिलाफ दायर याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार कर दया है. दरअसल, NGT ने उत्तर प्रदेश सरकार को आदेश दिया है कि मथुरा में गोवर्धन पर्वत के संरक्षण के लिए कानून बनाए. NGT के इस आदेश पर सुप्रीम कोर्ट के समक्ष उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट के समक्ष सोमवार को एडिशनल एडवोकेट जनरल ऐश्वर्या भाटी ने मामले की मेंशनिंग करते हुए इसकी जल्द सुनवाई की मांग की थी. 

ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार की याचिका पर जल्द सुनवाई की मांग खारिज करते हुए कहा कि अगर NGT ऐसा चाहती है तो ब्यूरोक्रेट्स इसमें संकोच क्यों कर रहे हैं. बता दें सुप्रीम कोर्ट इस मामले में 2 अगस्त को सुनवाई करेगा. मथुरा के गोवर्धन कस्बे में गिरिराज परिक्रमा संरक्षण मामले की सुनवाई के दौरान श्राइन बोर्ड गठन के संबंध में दिए गए आदेश को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से कोई समुचित जवाब न मिल पाने के कारण NGT ने अपर मुख्य सचिव एवं पर्यटन विभाग के महानिदेशक अवनीश कुमार अवस्थी को तलब किया था.

देखें लाइव टीवी

केदारनाथ आने वाले यात्रियों को बड़ी राहत, अब 16 नहीं सिर्फ 14 किमी तय करनी होगी पैदल यात्रा

गौरतलब है कि गोवर्धन में गिरिराज पर्वत की परिक्रमा के संरक्षण के मसले पर गिरिराज परिक्रमा संरक्षण संस्थान के बाबा आनन्द गोपाल दास एवं सत्यप्रकाश मंगल द्वारा वर्ष 2013 में दाखिल की गई याचिका पर सुनवाई चल रही है. 

उन्नाव रेप पीड़िता एक्सिडेंट मामले की CBI जांच के लिए तैयारः डीजीपी 

इसमें बाद में महंत फूलडोल बिहारी दास एवं दशरथ सिंह ने भी अपनी ओर से याचिकाएं दायर की थीं. सुनवाई में मथुरा के जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने अब तक किए गए कार्यों की रिपोर्ट देते हुए अगली सुनवाई के दौरान व्यक्तिगत तौर पर उपस्थिति से छूट मांगी तो कोर्ट ने उनकी मांग खारिज कर हाजिर रहने को कहा था.