close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हमीरपुर विधानसभा उपचुनाव में प्रयोग, ऐप से स्कैन की जा रहीं QR कोड वाली वोटर पर्चियां

हमीरपुर उपचुनाव में चुनाव आयोग प्रयोग के तौर पर 5 बूथों पर QR कोड वाली वोटर पर्चियों का वितरण कर रहा है. पर्ची को बूथ एप से स्कैन किया जा सकेगा जिससे मतदाता कई जानकारी हासिल कर सकेंगे. 

हमीरपुर विधानसभा उपचुनाव में प्रयोग, ऐप से स्कैन की जा रहीं QR कोड वाली वोटर पर्चियां

हमीरपुर: उत्तर प्रदेश के हमीरपुर विधानसभा में आज हो रहे उपचुनाव में चुनाव आयोग प्रयोग के तौर पर 5 बूथों पर QR कोड वाली वोटर पर्चियों का वितरण कर रहा है. पर्ची को बूथ एप से स्कैन किया जा सकेगा जिससे मतदाता कई जानकारी हासिल कर सकेंगे. इस एप का इस्तेमाल करने के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं है. चुनाव आयोग का मानना है कि इससे फर्जी वोटिंग पर पूरी तरह रोक लग जाएगी साथ ही तमाम तरह के जो सवाल उठ रहे हैं, वे सवाल उठने भी बंद हो जाएंगे.

आज हमीरपुर सदर विधानसभा सीट पर उपचुनाव के तहत वोटिंग हो रही है. इस उपचुनाव की खास बात ये है कि यहां किसी भी पार्टी का किसी से गठबंधन नहीं है. इस चुनाव में बीजेपी के सामने सपा, बसपा और कांग्रेस जैसी तमाम पार्टियां चुनाव लड़ रही हैं. बीजेपी ने युवराज सिंह पर दांव खेला है तो समाजवादी पार्टी ने मनोज प्रजापति, बहुजन समाज पार्टी ने नौशाद अली और कांग्रेस पार्टी ने हरदीपक निषाद को मैदान में उतारा है.

2017 विधानसभा चुनाव में इस सीट से भारतीय जनता पार्टी के अशोक सिंह चंदेल चुनाव जीते थे, लेकिन अशोक चंदेल को सामूहिक नरसंहार मामले में उम्रकैद की सजा हुई. उनके जेल जाने के बाद यह सीट खाली हो गई. यमुना और बेतवा नदी में आई बाढ़ से मतदाताओं की संख्या में कमी आई है. आज वहां बारिश भी हो रही है, जिसकी वजह से भी कम मतदाता घरों से निकल रहे हैं. बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले मतदाताओं के लिए जिला प्रशासन ने हर बूथ पर नाव, ट्रैक्टर और मोटरबोट की भी व्यवस्था की है.