पहले नहीं मिली नौकरी, अब फैक्ट्री खोलकर अपने जैसे दिव्यांगों को देते हैं रोजगार

सलमान की संघर्ष की ये कहानी अब तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भी जानते हैं.

पहले नहीं मिली नौकरी, अब फैक्ट्री खोलकर अपने जैसे दिव्यांगों को देते हैं रोजगार

दीप चंद्र जोशी, मुरादाबाद: कहते हैं मन में कुछ करने का जज्बा हो तो कोई काम मुश्किल नहीं होता है. मुरादाबाद के रहने वाले दिव्यांग सलमान ने ये कहावत सच कर दिखाई है. एक समय था जब दिव्यांग सलमान को नौकरी नहीं मिल रही थी लेकिन आज सलमान खुद अपने जैसे बहुत से दिव्यांगों को अपनी फैक्ट्री में नौकरी दे रहे हैं. सलमान की संघर्ष की ये कहानी अब तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भी जानते हैं.

बता दें कि रविवार को प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में सलमान और सलमान की फैक्ट्री का जिक्र किया. जिसके बाद से सलमान और उनके साथी बेहद खुश हैं. प्रधानमंत्री के मुंह से अपना और अपने साथियों का नाम सुनकर सलमान का और भी हौसला भी बढ़ गया है. सलमान मुरादाबाद के जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर काशीपुर हाईवे से सटे हमीरपुर गांव में अपनी फैक्ट्री चलाते हैं. सलमान की फैक्ट्री में साबुन, सर्फ और चप्पल बनाई जाती हैं. सलमान ने इंटरमीडिएट तक पढ़ाई की है. सलमान बचपन से ही दिव्यांगता से जूझ रहे हैं. दिव्यांगता के चलते सलमान को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. लेकिन अब उन्होंने अपने जैसे अन्य दिव्यांगों की मदद का जिम्मा उठाया है.

सलमान ने ज़ी मीडिया को बताया, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुंह से अपना नाम सुनकर मैं और मेरे साथी बहुत खुश हैं. मैं मोदी जी को बहुत-बहुत धन्यवाद देना चाहता हूं जो उन्होंने हमारा नाम लिया. मैं पहले सरकारी नौकरी की तलाश में फिरता रहा लेकिन नौकरी नहीं मिली. फिर मैंने सोचा क्यों ना मैं कोई नौकरी खोजने की बजाय एक फैक्ट्री खोल लूं जिससे मैं अपने जैसे दिव्यांगों को भी मदद कर सकूं." आज सलमान की फैक्ट्री में आज दिव्यांगों को रोजगार मिल रहा है. साबुन, सर्फ और चप्पल तैयार कर रहे दिव्यांगकर्मी खुद ही डोर-टू-डोर जाकर अपना उत्पाद बेच रहे हैं. जिसके लिए उन्हें अच्छा कमीशन दिया जाता है. फैक्ट्री के संचालन से लेकर उत्पादन और मार्केटिंग तक दिव्यांग काम मिलने से खुश नजर आ रहे हैं.

आपको बता दें कि सलमान और उनके साथियों ने 5 लाख रुपए इकट्ठा करके इस फैक्ट्री की नींव रखी थी और आज इनकी फैक्ट्री में बने उत्पादों को पसंद किया जा रहा है. सलमान भविष्य में इसे और बड़े स्तर पर ले जाने की योजना बना रहे हैं. सलमान और उनके साथियों ने बैंक से लोन लेने के लिए आवेदन भी किया है. पीएम मोदी तक उनका काम पहुंचने के बाद अब उन्हें लगता है कि स्थानीय प्रशासन भी उनकी मदद करेगा.