''10 हजार दो, काम हो जाएगा...!'' हरदोई में BEO के रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल

मास्टर साहब हम क्या बताएं? इसमें हमको बीएसए साहब को देना पड़ता है, फाइलों के हिसाब से. पैसे अपने पास से थोड़े देंगे? आपसे ज्यादा की बात ही नहीं की, आपसे 10 हजार की बात हुई थी. आप कह भी रहे थे.

''10 हजार दो, काम हो जाएगा...!'' हरदोई में BEO के रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल
वीडियो में बीएसए का नाम भी लिया गया है.

हरदोई: उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में लगातार भ्रष्टाचार के मामले सामने आ रहे हैं. ताजा मामला हरदोई जिले का है जहां खंड शिक्षा अधिकारी के रिश्वत मांगने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इसमें खंड शिक्षा अधिकारी (Block Education Officer) एक रिटायर्ड शिक्षक से 10 हजार रुपये की रिश्वत की मांग कर रही हैं. वीडियो में उन्होने बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) का नाम भी लिया है, जिससे उनकी भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं.

पढ़िए वायरल हो रहे वीडियो में खंड शिक्षा आधिकारी सुचि गुप्ता और रिटायर्ड शिक्षक के बीच हो रही बातचीत के अंश.
रिटायर्ड टीचर: बताएं मैडम.
बीईओ: मास्टर साहब हम क्या बताएं? इसमें हमको बीएसए साहब को देना पड़ता है, फाइलों के हिसाब से, पैसे अपने पास से थोड़े देंगे? आपसे ज्यादा की बात ही नहीं की, आपसे 10 हजार की बात हुई थी. आप कह भी रहे थे.
रिटायर्ड टीचर: 10 हजार!
बीईओ: आपने क्या कहा था....?
रिटायर्ड टीचर: हां, यही कहा था.
बीईओ: सही कहा था, तब फिर हम भी ऐसे को देते हैं जिससे पूरा हो जाए हमारा.
रिटायर्ड टीचर: 10 हजार से कम कर लें.
बीईओ: उससे कम क्या कर लें, हमने आपकी बात रख ली, आप घर आए थे, तभी हमने आपको कह दिया था कि आपकी समस्या दूर की जाएगी. बीएसए का खर्चा निकल आए, उन्हें पता होता है कि कितने लोग रिटायर हो रहे हैं. 10 हजार में क्या उन्हें देंगे क्या हम खुद रखेंगे?
रिटायर्ड टीचर: लॉकडाउन चल रहा है और तबीयत भी खराब थी.
बीईओ: हां, लॉकडाउन चल रहा है, लेकिन जो और लोग रिटायर हुए वह सभी मिलकर गए हैं हमसे..!
दोनों के बीच हुई बातचीत का रिटायर्ड अध्यापक ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर शिक्षा विभाग की पोल खोल दी. साथ ही शिक्षा विभाग में हो रहे भ्रष्टाचार को भी उजागर कर दिया.

लखनऊ के पत्रकारों को विदेशी नंबरों से आए कॉल, महिला बोली- ''मोदी को लाल किले पर झंडा फहराने से रोकना है''

यरल वीडियो पर हरदोई बीएसए हेमंत राव का कहना है कि भरखनी खंड विकास शिक्षा अधिकारी सुचि गुप्ता ने आपत्तिजनक बातें कहीं हैं. इसके लिए उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है और उनके इस कृत्य की निंदा की गई है. बीएसए ने कहा कि इससे विभाग की छवि धूमिल हो रही है. इसके लिए इनको प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई है और उच्च अधिकारियों से शिकायत कर दी गई है. आपको बता दें कि सूबे में यह कोई नया मामला नहीं है. इससे पहले भी शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार की पोल खुलती रही है. जहां शिक्षा अधिकारियों द्वारा रिश्वत मांगने के मामले सामने आ चुके हैं.