हरीश रावत ने ली चुटकी पूछा- गैरसैंण ग्रीष्मकालीन, देहरादून अस्थाई तो फिर स्थाई राजधानी कहां?

बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता सुरेश जोशी ने कहा कि हरीश रावत का बयान पहाड़ विरोधी मानसिकता का प्रतीक है.

हरीश रावत ने ली चुटकी पूछा- गैरसैंण ग्रीष्मकालीन, देहरादून अस्थाई तो फिर स्थाई राजधानी कहां?
फाइल फोटो

देहरादून: उत्तराखंड में लंबे वक्त से राजनीति की धुरी रहा गैरसैंण, अब आधिकारिक रूप से राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बन गया है. इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है. लेकिन, अब इस मुद्दे पर सियासत भी शुरू हो गई है. एक तरफ BJP जहां ग्रीष्मकालीन राजधानी भराड़ीसैंण (गैरसैंण) को त्रिवेंद्र सरकार के ऐतिहासिक फैसले के तौर पर देख रही है, तो वहीं कांग्रेस ने इसे छलावा करार देते हुए शिगूफा बताया है और सवाल पूछे हैं.

कांग्रेस नेता सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि कोरोना की रोकथाम को लेकर उत्तराखंड सरकार फेल हो गई, तो उसने ग्रीष्मकालीन राजधानी का शिगूफा छोड़ दिया. वहीं, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित करने पर चुटकी ली है. हरीश रावत ने राज्य सरकार से सवाल पूछा है कि अगर ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण है और देहरादून अस्थाई राजधानी तो फिर राज्य की स्थाई राजधानी कहां है?

उधर, बीजेपी ने भी पूर्व मुख्यमंत्री पर निशाना साधने में देरी नहीं की, बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता सुरेश जोशी ने कहा कि हरीश रावत का बयान पहाड़ विरोधी मानसिकता का प्रतीक है.

वहीं, उत्तराखंड क्रांति दल ने गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाने की मांग की है. UKD के नेता शांति प्रसाद भट्ट ने कहा कि गैरसैंण को स्थाई राजधानी से कम नहीं माना जाएगा. इस मुद्दे को लेकर हमारी पार्टी जनता के बीच जाएगी.