हाथरस मामले में PM मोदी ने की मुख्यमंत्री योगी से बात, बोले- दोषियों को कठोर से कठोर सजा मिले

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हाथरस में बालिका के साथ घटित दुर्भाग्यपूर्ण घटना के दोषी कतई नहीं बचेंगे. प्रकरण की जांच हेतु विशेष जांच दल का गठन किया गया है. यह दल आगामी सात दिवस में अपनी रिपोर्ट देगा. 

हाथरस मामले में PM मोदी ने की मुख्यमंत्री योगी से बात, बोले- दोषियों को कठोर से कठोर सजा मिले
हाथरस की घटना के संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बातचीत की.

लखनऊ: हाथरस में दलित लड़की के साथ हुई हैवानियत के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बुधवार सुबह फोन पर बात की. सीएम योगी ने ट्वीट कर जानकारी दी कि पीएम नरेंद्र मोदी ने हाथरस की घटना पर वार्ता की है और कहा है कि दोषियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाए. आपको बता दें कि इस मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एसआईटी का गठन कर दिया है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हाथरस में बालिका के साथ घटित दुर्भाग्यपूर्ण घटना के दोषी कतई नहीं बचेंगे. प्रकरण की जांच हेतु विशेष जांच दल का गठन किया गया है. यह दल आगामी सात दिवस में अपनी रिपोर्ट देगा. त्वरित न्याय सुनिश्चित करने हेतु इस प्रकरण का मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा.

गौरतलब है कि हाथरस जिले के चंदपा थाने क्षेत्र के एक गांव में बीते 14 सितंबर को मवेशियों के लिए चारा लेने खेत गई 19 वर्षीय दलित लड़की को गांव के ही चार युवकों ने अपनी दरिंदगी का शिकार बनाया था. हैवानों ने युवती के साथ दरिंदगी करने के बाद उसको जान से मारने की नीयत से उसका गला दबाया था, जिससे युवती के गर्दन की हड्डी टूट गई थी. लड़की को पहले अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था, फिर हालत बिगड़ने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया था. यहां इलाज के दौरान मंगलवार सुबह पीड़िता की मौत हो गई.

हाथरस केस की जांच के लिए CM योगी ने गठित की SIT, मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने का निर्देश

लड़की का अंतिम संस्कार मंगलवार शाम उसके पैतृक निवास स्थान पर कर दिया गया. प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर आरोप लगाए कि पुलिस ने परिवार की अनुमति के बिना जबरदस्ती पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया. उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफा मांग लिया. वहीं हाथरस जिलाधिकारी ने प्रियंका गांधी के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि बिना परिजनों की अनुमति के मृतका का अंतिम संस्कार कराने की बात बिल्कुल गलत है. पीड़िता के पिता और भाई की अनुमति के बाद ही अंतिम संस्कार किया गया. परिवार के सदस्य भी अंतिम संस्कार के वक्त मौजूद थे.

WATCH LIVE TV