हाथरस कांड: पीड़िता के भाई और मुख्य आरोपी के बीच 6 महीने में 104 फोन कॉल्स, 5 घंटे की बातचीत

 सवाल खड़े हो रहे हैं कि आरोपी और पीड़ित परिवार के घरों के बीच की दूरी 200 मीटर है, तो इतने फोन कॉल्स क्यों...?  

हाथरस कांड: पीड़िता के भाई और मुख्य आरोपी के बीच 6 महीने में 104 फोन कॉल्स, 5 घंटे की बातचीत
युवती के भाई और आरोपी के फोन कॉल रिकॉर्ड में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं.

हाथरस: हाथरस कांड में अब एक नया और सनसनीखेज तथ्य सामने आया है. मृत युवती के भाई और घटना के मुख्य आरोपित संदीप ठाकुर की कॉल डिटेल्स (Call Details Record) से पता चला है कि 13 अक्टूबर 2019 से मार्च 2020 तक दोनों नंबरों के बीच 104 बार और करीब 5 घंटे बात हुई है. इन दोनों के घर 200 मीटर की दूरी पर स्थित हैं. मृत पीड़िता के भाई और घटना के मुख्य आरोपित की कॉल डिटेल सामने आने के बाद इसे लेकर कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं. 

हाथरस कांड: एक ​हफ्ते में जांच पूरी नहीं कर सकी SIT, मुख्यमंत्री योगी ने दिए 10 और दिन

अब सवाल उठ रहा है कि जब युवती और आरोपित संदीप ठाकुर के घरों का फासला 200 मीटर भी नहीं है तो मोबाइल के जरिए दोनों के बीच इतनी बार कॉल्स करने की जरूरत क्या पड़ गई. कॉल डिटेल्स से यह भी स्पष्ट हुआ है कि पीड़िता के भाई के नंबर से आरोपित संदीप के नंबर पर 62 बार और संदीप ठाकुर के नंबर से युवती के भाई के मोबाइल नंबर पर 42 बार कॉल की गई. दोनों नंबरों की लोकेशन चंदपा थाना क्षेत्र है. 

VIDEO: हाथरस कांड में आरोपी पक्ष ने लगाई इंसाफ की गुहार, नार्को और पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए तैयार

अब पुलिस कॉल डिटेल्स के आधार पर पीड़िता के भाई और मुख्य आरोपित संदीप ठाकुर से पूछताछ कर सकती है. बताया जा रहा है कि जांच एजेसियों ने चारों आरोपितों के मोबाइल फोन की कॉल डीटेल्स निकलवाई है. साथ ही पीड़िता और आरोपियों के ​परिवार वालों के नंबरों की भी सीडीआर निकलवाई गई है. पुलिस जांच रही है कि वारदात वाले दिन आरोपी युवकों और पीड़िता के परिजनों की लोकेशन कहां थी. 

क्या है हाथरस कांड? जानिए पूरा मामला
हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले बुलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को 19 वर्षीय दलित युवती से कथित गैंगरेप का मामला प्रकाश में आया था. वारदात को अंजाम देने का आरोप गांव के ही चार युवकों पर लगा है, चारों फिलहाल पुलिस की हिरासत में हैं. दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान 29 सितंबर को पीड़िता की मौत हो गई थी.

कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद हाथरस पहुंचे AAP विधायक, संक्रमण फैलाने के आरोप में FIR दर्ज

पुलिस पर आरोप है कि उसने परिजनों की अनुमति लिए बगैर रात में ही पीड़िता के शव को जला दिया. इस मामले में हाथरस एसपी, डीएसपी समेत 5 पुलिसकर्मी​ निलंबित हो चुके हैं. इधर, पुलिस ने फॉरेंसिक और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से दावा किया है कि मृत युवती के साथ दुष्कर्म नहीं हुआ था. यूपी सरकार इस मामले की जांच SIT से करवा रही है, साथ ही CBI जांच की सिफारिश भी कर चुकी है. 

WATCH LIVE TV