लू के थपेड़ों से झुलस रहा है उत्तर प्रदेश, ज्यादातर शहरों में पारा 40 ℃ के पार

जब किसी जगह का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार चला जाता है तो इस वक्त चलने वाली तेज हवाएं ही हीट वेव होती हैं. सामान्य तौर हम इसे लू कहते हैं. ऐसे गरम मौसम के बीच बाहर निकलने पर गर्म तेज हवाओं से सेहत को नुकसान होता है. हर साल हीट वेव्स या लू की वजह से सैकड़ों लोगों की जान चली जाती है. चूंकि इस बार चुनौती लू के साथ कोरोना की भी है, ऐसे में अपना ख्याल रखना और भी जरूरी हो गया है.

लू के थपेड़ों से झुलस रहा है उत्तर प्रदेश, ज्यादातर शहरों में पारा 40 ℃ के पार
गर्मी में सड़कों पर निकलना मुश्किल (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में पिछले दो दिनों से गर्मी अपना सितम ढा रही है. मौसम में हुए बदलाव के बाद सूबे के लगभग सभी शहरों में तापमान बढ़ गया है और लोग कोरोना के बाद गर्मी की मार भी झेल रहे हैं. लॉकडाउन में ढील भले ही मिल रही हो लेकिन सूजन के सितम के आगे लोग घरों से निकलने में गुरेज कर रहे हैं और सड़कों पर सन्नाटा है.

वाराणसी में पारा 40 के पार 
गंगा किनारे बसे वाराणसी में सूरज की तपन इतनी बढ़ गई है कि पूरी काशी ही व्याकुल हो उठी है. कोरोना संकट ने पहले ही लोगों को डरा रखा है, अब गर्मी के चलते यहां की सड़कों पर लॉकडाउन है. लॉकडाउन में राहत मिलने के बाद दुकानें जरूर खुली हैं लेकिन सूरज चढ़ने के साथ ही लोग घरों से बाहर निकलने में बचते हैं. गर्मी और लू का ये मंजर देखते हुए जून की कल्पना करके ही काशी के लोग घबरा रहे हैं. 

राजधानी लखनऊ में भी लू से बुरा हाल
सूबे की राजधानी लखनऊ में भी सूरज चढ़ने के साथ गर्मी और लू का प्रकोप भी बढ़ता जाता है. यहां भी तापमान 36 से 40 तक रहता है. मौसम विभाग का मानना है कि आने वाले दिनों में अभी तापमान बढ़ने की ही उम्मीद है. लखनऊ के लोगों ने लॉकडाउन खुलने के बाद घड़े और सुराही की शॉपिंग शुरू कर दी है, क्योंकि गर्मी में ठंडे पानी का ही सहारा है.

इसे भी पढ़ें :हर वकील की मृत्यु पर परिवार को मिलेगी डेढ़ लाख की सहायता, खत्म हुई आयु सीमा की बंदिश 

गाजियाबाद और नोएडा में लू के थपेड़े 
दिल्ली-NCR में भी पारा चढ़ता ही जा रहा है. बाहर निकलते समय लोगों को कोरोना के साथ-साथ लू के थपेड़ों से बचने के लिए मुंह ढकने की जरूरत पड़ रही है. गाजियाबाद में सुबह 10 बजे से ही तापमान 38 डिग्री सेल्सियस रहता है जो दिन चढ़ने के साथ बढ़ता जाता है. नोएडा में भी लॉकडाउन में राहत मिलने के बाद जब से सड़क पर गाड़ियों की संख्या बढ़ी है, तापमान खुद-ब-खुद बढ़ रहा है. ऐसे में आने वाले वक्त में लोगों के लिए हीट वेव से बचने की भी चुनौती होगी.

ये भी देखें :UP के शॉपिंग मॉल्स में भी मिलेगी महंगी शराब, सरकार ने इसलिए लिया फैसला

बढ़ते तापमान से होता है हीट वेव का खतरा 
मौसम विभाग के मुताबिक जब किसी जगह का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार चला जाता है तो इस वक्त चलने वाली तेज हवाएं ही हीट वेव होती हैं. सामान्य तौर हम इसे लू कहते हैं. ऐसे गरम मौसम के बीच बाहर निकलने पर गर्म तेज हवाओं से सेहत को नुकसान होता है. हर साल हीट वेव्स या लू की वजह से सैकड़ों लोगों की जान चली जाती है. चूंकि इस बार चुनौती लू के साथ कोरोना की भी है, ऐसे में अपना ख्याल रखना और भी जरूरी हो गया है.

WATCH LIVE TV