'हिंदू कोर्ट' की जज बोलीं, 'गोडसे से पहले पैदा हुई होती तो गांधी को गोली मैं ही मारती'

डॉ. पूजा शकुन पाण्डेय ने कहा, गोडसे ने गांधीजी की हत्या नहीं की थी. उन्हें भारतीय संविधान लागू होने से पहले सजा दे दी गई थी, जिसकी उनको ये सजा मिली. 

'हिंदू कोर्ट' की जज बोलीं, 'गोडसे से पहले पैदा हुई होती तो गांधी को गोली मैं ही मारती'
फाइल फोटो
Play

नई दिल्ली/मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में गठित पहली 'हिंदू कोर्ट' की पहली जज डॉ. पूजा शकुन पाण्डेय ने विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा. 'मैं गर्व से कहती हूं कि यदि नाथूराम गोडसे से पहले मैं पैदा होती तो मैं ही गांधी को मार देती. उन्होंने कहा मुझे गर्व है कि मैं और मेरा संगठन अखिल भारत हिंदू महासभा नाथू राम गोडसे की पूजा करता है'. उन्होंने कहा कि ऐसा कहकर मैंने कोई विवादित बयान नहीं दिया है.   

गुरुवार (23 अगस्त) को हिंदू कोर्ट की पहली जज डॉ. पूजा शकुन पाण्डेय ये बयान दिया था. उन्होंने कहा, 'गोडसे ने गांधीजी की हत्या नहीं की थी. उन्हें भारतीय संविधान लागू होने से पहले सजा दे दी गई थी, जिसकी उनको ये सजा मिली.' उन्होंने कहा था कि पिता कभी भी अपने दो बेचों में बंटवारा नहीं करता है. 

ये भी पढ़ें: मेरठ: शरीयत कोर्ट की तर्ज पर अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने बनाई 'हिंदू कोर्ट'

आपको बता दें कि यूपी के मेरठ में देश की पहली कथित 'हिंदू अदालत' स्थापित करने का दावा अखिल भारत हिंदू महासभा नामक संगठन ने किया है. महासभा ने इस कोर्ट की स्थापना 15 अगस्त के मौके पर मेरठ में की गई है. इस कोर्ट की स्थापना हिंदू धर्म से जुड़े मामलों के निपटारे के उद्देश्य से की गई है, इसमे दारुल कजा यानि शरीयत कोर्ट की ही तरह फैसले सुनाए जाएंगे और यहां लोगों की समस्याओं का समाधान किया जाएगा.