close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यूपी: कई सियासी दिग्गजों की सुरक्षा में कटौती, अखिलेश यादव की छिनेगी Z प्लस सुरक्षा

भारत में वीवीआईपी की सुरक्षा में स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप, नेशनल सिक्योरिटी गार्ड, आईटीबीपी और सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स ही आर्म्ड फोर्सेज के तौर पर लगायी जाती है.

यूपी: कई सियासी दिग्गजों की सुरक्षा में कटौती, अखिलेश यादव की छिनेगी Z प्लस सुरक्षा
फोटो साभार- PTI

लखनऊ: सुरक्षा के मामले में गृह मंत्रालय ने सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव की सुरक्षा में कमी कर दी है. सूत्रों के अनुसार देश की इलीट कमांडो फोर्स एनएसजी पर से बोझ कम करने के लिए यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव की जेड प्लस सिक्योरिटी से एनएसजी कवर हटा दिया गया है. केंद्र सरकार के इस फैसले से यूपी में सियासतदारों के अंदर खलबली मच गई है. हालांकि यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने अखिलेश की सुरक्षा हटाए जाने पर इसे गृह मंत्रालय का फैसला बताते हुए कहा कि, जरुरत के हिसाब से सुरक्षा हटाई या लगाई जाती है.

गृह मंत्रालय से जारी हुई सूची में यूपी के कई सियासी लोगों के नाम शामिल हैं. जिनकी सुरक्षा हटाने का फैसला किया गया है. यूपी के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा का नाम सीआरपीएफ प्रोटेक्टी की सेंट्रल लिस्ट से हटा दिया गया है. मुज़फ्फर नगर दंगो के दौरान भाजपा के फायर ब्रांड नेता के तौर पर उभरे संगीत सोम की सुरक्षा घटा दी गयी है.

अब उन्हें सिर्फ यूपी में Y कैटेगरी में सीआरपीएफ कवर दिया जाएगा. सुरक्षा समिति ने गृह मंत्रालय को जो सिफारिश की है उसमे बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश मिश्रा का भी नाम है. सतीश चंद्र मिश्र की सुरक्षा में कटौती करते हुए उनका नाम सीआरपीएफ  प्रोटेक्टी की सेंट्रल लिस्ट से हटा दिया गया है.

अब उन्हें सिर्फ यूपी में Z कैटेगरी की सुरक्षा में सीआरपीएफ कवर दिया जाएगा. यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक और यूपी गन्ना मंत्री सुरेश राणा की रक्षा में लगी सुरक्षा भी हटा दी गयी है. सूत्रों के अनुसार, सरकार का मानना है कि एनएसजी की सुरक्षा पा रहे वीआईपी उन पर मंडराने वाले खतरे से ज्यादा सुरक्षा पा रहे हैं.

भारत में वीवीआईपी की सुरक्षा में स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप,नेशनल सिक्युरिटी गार्ड,आईटीबीपी और  सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स ही आर्म्ड फोर्सेस के तौर पर लगायी जाती है.केंद्रीय सुरक्षा समिति ने कल समीक्षा के दौरान गृह मंत्रालय को जो सिफारिश की है उसमे ये भी कहा गया है की कुछ वीवीआई पी की सुरक्षा में लगी एनएसजी को हटाकर उसकी जगह किसी अन्य पैरामिलिट्री फोर्स को भी यह जिम्मेदारी दी जा सकती है. बरहाल केंद्र सरकार के इस  फैसले के बाद यूपी में सियासतदारो के अंदर खलबली मच गयी है.