IIM लखनऊ में लगेगी योगी और सरकार के मंत्रियों की क्लास, ये होगा फायदा

यूपी में ऐसा पहली बार होगा जब सरकार के मुखिया अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ आईआईएम में सुशासन और प्रबंधन की क्लास लेंगे. 

IIM लखनऊ में लगेगी योगी और सरकार के मंत्रियों की क्लास, ये होगा फायदा
(फाइल फोटो)

लखनऊ: शासन चलाने के साथ ही योगी सरकार (Yogi Government) के मंत्री अब प्रबंधन के गुर (management skill) भी सिखेंगे. खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) अपने सरकार के मंत्रियों के साथ प्रबंधन की ट्रेनिंग लेंगे. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (Indian Institute of Management) सरकार के मंत्रियों को सुशासन और प्रबंधन का पाठ पढ़ाएगा. इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. रविवार को सुबह 9 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक लखनऊ आईआईएम (IIM) में मंत्रियों की क्लास चलेगी. यूपी में ऐसा पहली बार होगा जब सरकार के मुखिया अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ आईआईएम में सुशासन और प्रबंधन की क्लास लेंगे. अपर प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी का कहना है कि रविवार की सुबह 9 बजे सीएम सभी मंत्रियों के साथ आईआईएम पहुंचेंगे. इसके अलवा और दो सत्रों का आयोजन किया जाएगा. कुल मिलाकर तीन सत्र होगा. दूसरा सत्र 15 सिंतबर जबकी तीसरा और अंतिम सत्र का आयोजन 22 सिंतबर को होना तय होगा.

यूपी सरकार के मंत्रियों का पहला प्रशिक्षण सत्र 'सुशासन' पर केंद्रित होगा. इस क्लास में सीएम भी मौजूद रहेंगे. आईआईएम (IIM) की इस क्लास में त्वरित क्रियान्वयन, वित्तीय प्रबंधन, फाइलों के जल्द निस्तारण और बजट के बेहतर इस्तेमाल को लेकर बात होगी. आईआईएम के प्रोफेसर शासन सांइटिफिक तरीके से चलाने के गुर भी सिखाएंगे. तीसरे सत्र में योजनाओं को कैसे तय समय में पूरा किया जाए इसको लेकर बात हो सकती है. यानी टाइम मैनेजमेंट (Time Management) के साथ बेहतर प्रशासन चलाने के गुर भी सिखाए जाएंगे. तीन सत्रों में चलने वाली इन क्लासेज में अलग-अलग विषय के विशेषज्ञ और प्रोफेसर सरकार के समक्ष बेहतर प्रशासन पर अपनी राय रखेंगे. ट्रेनिंग के लिए मंत्रियों के अलग-अलग समूह बनाए जाएंगे. उनके लिए टॉस्क (Task) तय किया जाएगा और उसी के अनुसार आईआईएम ट्रेनिंग मॉड्यल डिजाइन करेगा.

देखें लाइव टीवी

दरअसल, सरकार ने अपने ढाई साल का क्रायकाल पूरा कर लिया है. इन ढाई साल में सरकार ने विसाक की योजनाओं की जो रुपरेखा तैयार की है उसे पूरा करना बड़ी चुनौती है. इतना ही नहीं जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है. सीएम के नये मंत्रिमंडल में करीब आधे चेहरे नए हैं. लिहाजा मंत्रियों के लिए इस तरह के प्रशिक्षण की जरुरत भी है. माना जा रहा है कि आईआईएम (IIM) के साथ मंत्रियों के इस कैप्सूल कोर्स का विचार मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार का है. ताकि पुराने मंत्रियों के साथ नए मंत्री भी सरकार की गति के साथ तालमेल कर सकें और बेहतर शासन और प्रशासन का गुर सिख सकें. इसीलिए सीएम ने इस तरह की ट्रेनिंग की मंजूरी दी है.