राम मंदिर के 1200 खंभों के लिए आज से टेस्ट पाइलिंग शुरू करेंगे IIT चेन्नई के इंजीनियर

आपको बताते चलें की राम मंदिर 1000 वर्षों तक सुरक्षित रहे इसके लिए 1 मीटर व्यास के 12 सौ खंभे धरती के 100 फीट नीचे तक विशेष कंक्रीट और सीमेंट से ढाले जाएंगे. इन्हीं 1200 खंभों पर पिंक स्टोन से भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण होगा.

राम मंदिर के 1200 खंभों के लिए आज से टेस्ट पाइलिंग शुरू करेंगे IIT चेन्नई के इंजीनियर
अयोध्या राम मंदिर का कम्प्यूटराइज्ड ग्राफिक.

अयोध्या: राम जन्मभूमि परिसर में रामलला के मंदिर का बेस बनाने के लिए टेस्ट पाइलिंग का काम शुक्रवार से शुरू हो सकता है. पांच एकड़ भूमि में 12 सौ खंभों पर राम मंदिर का निर्माण होना है. ऐसे में 1 मीटर व्यास और 100 फीट गहराई के खंबे के लिए टेस्ट पाइलिंग का काम शुरू करना है. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य डॉ. अनिल मिश्र के मुताबिक टेस्ट पाइलिंग के लिए सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं. संभावना है कि टेस्ट पाइलिंग का काम रिंग मशीन के माध्यम से शुक्रवार से शुरू हो जाए.

राम मंदिर के 1200 खंभों के लिए टेस्ट पाइलिंग शुरू होगी
आपको बताते चलें की राम मंदिर 1000 वर्षों तक सुरक्षित रहे इसके लिए 1 मीटर व्यास के 12 सौ खंभे धरती के 100 फीट नीचे तक विशेष कंक्रीट और सीमेंट से ढाले जाएंगे. इन्हीं 1200 खंभों पर पिंक स्टोन से भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण होगा. खंभों के लिए किस तरह की गिट्टी और सीमेंट का प्रयोग पाइलिंग में किया जाए इसके लिए आईआईटी चेन्नई को रिसर्च की जिम्मेदारी सौंपी गई है. पहली टेस्ट पाइलिंग पर रिसर्च की शुरुआत शुक्रवार से हो सकती है, जिसकी रिपोर्ट 1 महीने में आएगी. उसके बाद ही सभी खंभों की ढलाई का काम शुरू होगा.

अयोध्या: राम मंदिर बनना भी नहीं शुरू हुआ, जालसाजों ने ट्रस्ट के अकाउंट से उड़ा दिए लाखों

राम जन्मभूमि परिसर में दो रिंग मशीनें आकर खड़ी हैं
राम जन्मभूमि परिसर में पाइलिंग के लिए दो रिंग मशीनें आकर खड़ी हैं, दो और मशीनें आनी बाकी हैं. इन्हीं मशीनों से राम मंदिर के 1200 खंभों के लिए जमीन के अंदर 100 फीट की गहराई तक 1 मीटर व्यास के गड्ढे किए जाएंगे. लार्सन एंड टूब्रो के विशेषज्ञ इंजीनियरों की निगरानी में ये सभी कार्य संपन्न होंगे. बीते 8 सितंबर को राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र भी अयोध्या पहुंचे थे. उन्होंने राम जन्मभूमि परिसर का मुआयना कर टेस्ट पाइलिंग वाले स्थानों को देखा. 

राम मंदिर निर्माण समिति की 12 सितंबर को दिल्ली में बैठक
इस बीच अयोध्या राम मंदिर निर्माण समिति की बैठक 12 सितंबर को दिल्ली में होनी है. इस बैठक में राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र के साथ लार्सन एंड टूब्रो के विशेषज्ञ इंजीनियर, आईआईटी चेन्नई के वैज्ञानिक और बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट रुड़की के एक्सपर्ट वैज्ञानिक शामिल होंगे. मीटिंग में राम जन्मभूमि ​परिसर के 70 एकड़ भूमि में मंदिर के अलावा अन्य निर्माण कार्यों, राम मंदिर के चारों द्वारों, कार्यशाला में रखे गए पत्थरों को मंदिर निर्माण स्थल तक कैसे पहुंचाया जाए इसको लेकर चर्चा होगी. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय दिल्ली की बैठक में शामिल नहीं होंगे, वह अयोध्या में ही मौजूद रहेंगे.

WATCH LIVE TV