आगरा में B.Ed की फर्जी डिग्री लगाकर नौकरी कर रहे 24 शिक्षकों की सेवा समाप्त, दर्ज हुई FIR

ये सभी शिक्षक आगरा जिले के प्राथमिक विद्यालयों में सालों से नौकरी कर रहे थे. नौकरी के लिए इन्होंने डॉक्टर भीमराव आंबेडकर विवि आगरा की बीएड सत्र 2004-05 की फर्जी डिग्री लगाई थी. 

आगरा में B.Ed की फर्जी डिग्री लगाकर नौकरी कर रहे 24 शिक्षकों की सेवा समाप्त, दर्ज हुई FIR
सांकेतिक तस्वीर.

आगरा: आगरा में बीएड की फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रहे 24 शिक्षकों की सेवाएं समाप्त कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. पुलिस आरोपी शिक्षकों की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है. आगरा के बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव कुमार ने इन 24 फर्जी बीएड डिग्रीधारी शिक्षकों पर मुकदमा दर्ज कराया है.

ये सभी शिक्षक आगरा जिले के प्राथमिक विद्यालयों में सालों से नौकरी कर रहे थे. नौकरी के लिए इन्होंने डॉक्टर भीमराव आंबेडकर विवि आगरा की बीएड सत्र 2004-05 की फर्जी डिग्री लगाई थी. एसआईटी ने साल 2015 में आगरा के डॉक्टर भीमराव आंबेडकर विश्विविद्यालय में बीएड सत्र 2004-2005 की अंकतालिकाओं में फर्जी तरीके से नंबर बढ़ाने की जांच शुरू की थी.

बुंदेलखंड को मुख्यमंत्री योगी की सौगात, 'हर घर नल' योजना का किया शुभारंभ

साल 2017 में सुनील कुमार नामक याचिकाकर्ता की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विश्विवद्यालय को जांच के आदेश जारी किए थे. अदालत ने माना था कि फर्जी अंकतालिकाओं के जरिए तमाम छात्र शिक्षा विभाग में समायोजित हो गए हैं. शासन की ओर से आगरा बीएसए को ऐसे शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई का आदेश दिया गया था.

एसआईटी और यूनिवर्सिटी की जांच के बाद 28 दिसंबर 2019 को 3637 फर्जी अभ्यर्थी, 1084 टेम्पर्ड अभ्यर्थी और 45 डुप्लीकेट अभ्यर्थियों की सूची विवि की वेबसाइट पर डाली गई और 15 दिन में ऑनलाइन या रजिस्टर्ड पोस्ट के जरिए उनका पक्ष मांगा गया. इनमें से 814 ने अपना पक्ष रखा था, जबकि 2823 अभ्यर्थियों ने कोई जवाब नहीं दिया. इसके बाद विवि ने इन सभी को फर्जी घोषित कर दिया था.

कांग्रेस की बढ़ती लोकप्रियता से घबराए योगी, लोकतंत्र की हत्या पर हैं आमादा: लल्लू

इनमें आगरा बेसिक शिक्षा विभाग में नौकरी करने वाले ये 24 शिक्षकों भी शामिल हैं. इनकी सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव कुमार द्वारा आगरा के शाहगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है. आरो​पी शिक्षकों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 468 और 471 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है. इनके विरूद्ध न्यायिक कार्यवाही के साथ रिकवरी का नोटिस भी भेजा जा रहा है.

इन शिक्षकों के खिलाफ दर्ज हुआ है मुकदमा

1. हरीचंद, स्कूल नगला गढ़ीमा, ब्लॉक अछनेरा, 2. चंदन सिंह, स्कूल नगला साथा ब्लॉक अछनेरा, 3. सुधा, स्कूल बल्हेेरा ब्लॉक अकोला, 4. कविता गौतम, स्कूल नगला अक्खे ब्लॉक बिचपुरी शाहगंज, 5. रेनू कुमारी, स्कूल स्वामी ब्लॉक बिचपुरी, 6. निशिकांत, स्कूल लड़ामदा ब्लॉक बिचपुरी, 7. गीता, स्कूल लड़ामदा ब्लॉक बिचपुरीख्अ 8. श्विनी कुमार यादव, स्कूल भोगपुरा ब्लॉक फतेहाबाद, 9. सुरेखा, स्कूल कराही, फतेहपुरसीकरी, 10. योगेंद्र कुमार, स्कूल गढ़ी प्रतापपुरा ब्लॉक जैतपुर, 11. धर्मेश कुमार सिंह,स्कूल महुआ जैतपुर कलां, 12. अरुण कुमार,स्कूल रहनकलां रोड खंदौली.

13. राम किशोर, स्कूल सेमरा ब्लॉक खंदौली, 14. प्रमोद कुमार,स्कूल महुआखेड़ा ब्लॉक खेरागढ़, 15. आकांक्षा कुमारी, स्कूल गढ़ी ताल ब्लॉक खेरागढ़, 16. चेतन शर्मा,स्कूल राटौटी ब्लॉक पिनाहट, 17. कमल वर्मा, स्कूल कुकथरी ब्लॉक पिनाहट, 18. शैलेंद्र कुमार, स्कूल पिनाहट ब्लॉक, 19. योगेंद्र सिंह, स्कूल नौहारिका ब्लॉक सैंया, 20. सरिता कुमारी, स्कूल नगला धना ब्लॉक तेहरा सैंया, 21. चंद्र शेखर,स्कूल पहचान ब्लॉक शमसाबाद, 22. दलवीर, स्कूल बड़ोबरा खुर्द ब्लॉक शमसाबाद, 23. पूनम कुमारी, स्कूल शंकरपुर ब्लॉक द्वारी शमसाबाद, 24. विजय कुमारी, स्कूल कौलारा कला ब्लॉक शमसाबाद.

WATCH LIVE TV