IT के नोटिस से उड़े नौकरों के होश, मालिक ने खाते खुलवाकर किया था करोड़ों का हेरफेर

नौकरों के पास करोड़ों की ट्रांजैक्शन के इनकम टैक्स के नोटिस पहुंच रहे हैं, जिससे उनके होश उड़े हुए हैं. जिसके बाद पीड़ित नोटिस लेकर एसएसपी ऑफिस पहुंचे और आरोपी व्यापारी पर कार्रवाई की मांग की.

IT के नोटिस से उड़े नौकरों के होश, मालिक ने खाते खुलवाकर किया था करोड़ों का हेरफेर
पीड़ित एसएसपी कार्यालय पहुंचे और आरोपी व्यापारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.

मथुरा: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा (Mathura) में काले धन को सफेद करने के लिए व्यापारी द्वारा नौकरों के फर्जी बैंक खाते खोलने का मामला सामने आया है. इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब नौकरों को इनकम टैक्स के नोटिस आने शुरू हुए.

बताया जा रहा है कि नौकरों के दस्तावेज लेकर व्यापारी ने बैंक से सांठगांठ कर खाते खोले और करोडों रुपयों का ट्रांजैक्शन किया. इस दौरान पता चला कि खातों में मालिक ने अपना मोबाइल नंबर भी जुड़वा रखा था, ताकि ट्रांजैक्शन की जानकारी लगती रहे. वहीं अब, नौकरों को इनकम टैक्स के नोटिस आ रहे हैं, जिससे उनके होश उड़े हुए हैं. पीडित आज नोटिस लेकर एसएसपी ऑफिस पहुंचे और आरोपी व्यापारी पर कार्रवाई की मांग की है.

बताया जा रहा है कि थाना गोविंद नगर इलाके में गांधी पार्क के पास सौरव कागजी पुत्र श्री छगनलाल कागजी की सीएल गिलहट ऑर्नामेंट के नाम से फर्म है. जो चांदी और गिलहट का कारोबार करता है. पीड़ित ने बताया कि वो काफी समय पहले सीएल गिलहट ऑर्नामेंट के यहां पर काम किया करता था. लेकिन, 2015 में ही वहां से काम छोड़ दिया, जिसके बाद 15 अक्टूबर 2019 को मजदूर राम पुत्र रमेश निवासी तेलीपाड़ा वृंदावन पर इनकम टैक्स का नोटिस आया और उसे आगरा बुला लिया गया. यहां उसके कागजात और पेनकार्ड इनकम टैक्स ऑफिस में जब्त कर लिए गए.
अपने साथ घटी घटना की जानकारी पीड़ित ने इनकम टैक्स ऑफिस में बताई. पीड़ित ने बताया कि वो 2015 में चौक बाजार स्थित सीएल गिलहट ऑर्मामेंट में काम करता था. जहां पर के दस्तावेज दिए गए और फर्जी तरीके से बैंक में खाता खोलकर उसमें ट्रांजैक्शन किया गया. पीड़ित ने बताया कि फर्जीवाड़े की जानकारी इनकम टैक्स के नोटिस के बाद हुई.

वहीं मंगलवार को पीड़ित एसएसपी कार्यालय पहुंचे और आरोपी व्यापारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. पीड़ित का कहना था कि धोखाधड़ी से बैंक में फर्म मालिक ने उनका खाता खुलवाया और उनके साथ धोखा किया. इस दौरान बैंक खातों से करोड़ों का ट्रांजैक्शन भी किया. वहीं एसएसपी ने पीड़ितों को जांच के उपरांत सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया है.