close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब जल्द ही इंडिया की होगी ऑनलाइन ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी, सुरक्षित होगा डेटा

ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी के जरिए अब सरकारी डेटा को दुनिया के किसी भी कोने में बैठे हैकर्स से इसे सुरक्षित किया जा सकेगा.

अब जल्द ही इंडिया की होगी ऑनलाइन ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी, सुरक्षित होगा डेटा
IIT कानपुर के वैज्ञानिकों की एक टीम इसे डेवलप करने में जुटी है.

नई दिल्ली/कानपुर: आपका गोपनीय और संवेदनशील ऑनलाइन डेटा जल्द ही सुरक्षित होगा. आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक इसके लिए एक टेक्नोलॉजी तैयार कर रहे हैं, जो फोर्ट नॉक्स टेक्नोलॉजी से बेहतर होगी. देश में उपलब्ध डेटा को टैंपर प्रूफ बनाने के लिए नेशनल साइबर सिक्योरिटी को-ऑर्डिनेटर दफ्तर के साथ मिलकर, आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक काम कर रहे हैं. ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी के जरिए अब सरकारी डेटा को दुनिया के किसी भी कोने में बैठे हैकर्स से इसे सुरक्षित किया जा सकेगा. इस तकनीक का उपयोग भू-अभिलेखों को सरल, पारदर्शी और टैम्पर प्रूफ बनाने, रजिस्ट्री मैनेजमेंट, ड्राइविंग लाइसेंस के रख-रखाव के लिए किया जा सकता है. 

India will introduce soon online Blockchain technology, IIT Kanpur scientists developing the technology

IIT कानपुर के वैज्ञानिकों की टीम डेवलेप करने में जुटी
इस प्रोजेक्ट के लिए आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों की एक पूरी टीम लगाई गई है. ब्लॉकचेन टेक्नोलाजी को बनाने का आइडिया सबसे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा समन्वयक गुलशन रॉय को सूझा था फिर उन्होने इस प्रोजेक्ट में आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों को जोड़ा. अब आईआईटी कानपुर के डिप्टी डायरेक्टर मणीन्द्र अग्रवाल और सदीप शुक्ला की जोड़ी इसे लीड कर रही है. 

ये भी पढ़ें: पहाड़ों पर पहरा देने वाले सैनिकों की समस्या के खातिर एक सैनिक ने बना दिया सोलर फ्रिज

साइबर सुरक्षा से निपटना चुनौती
बढ़ती साइबर सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा नीति बनाई गई थी, जिसका उद्देश्य नागरिकों, व्यवसायों और सरकार के लिए एक सुरक्षित और लचीला साइबर स्पेस मुहैया कराना था. बाद में साईबर डाटा की सुरक्षा के लिये ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी बेहद कारगर तरीका बनकर सामने आई. महाराष्ट्र समेत कई राज्य ई-गवर्नेंस के लिए ब्लॉकचेन को अपनाने लगे हैं. 

जल्द NAS के हाथों में होगी टेक्नोलॉजी
नेशनल साइबर सिक्योरिटी एजेंसी इस टेक्नोलॉजी को विकसित करने के लिए आईआईटी को 33 करोड़ 40 लाख रुपए देगी. जानकारी के मुताबिक, अगर सबकुछ ठीक रहा तो दो महीनों में ये नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी के हाथों में पहुंचा दी जाएगी.