झांसी में इंस्पेक्टर की बहादुरी से टला भीषण हादसा, जलता हुए सिलेंडर उठाया और...

अपनी जान को जोखिम में डालकर, उन्होंने जलते हुए गैस सिलेंडर को घसीटकर नदी किनारे ले गए, जिससे एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया. 

झांसी में इंस्पेक्टर की बहादुरी से टला भीषण हादसा, जलता हुए सिलेंडर उठाया और...
इस सराहनीय कार्य के लिए पुलिस प्रशासन भी उनकी तारीफ कर रहा है.

नई दिल्ली/झांसी: कहावत है कि इरादे मजबूत हो तो फिर किसी भी मुसीबत से लड़ा जा सकता है. झांसी के मऊरानीपुर थाना इंचार्ज प्रेमचंद ने एक सराहनीय कार्य किया है. अपनी जान को जोखिम में डालकर, उन्होंने जलते हुए गैस सिलेंडर को घसीटकर नदी किनारे ले गए, जिससे एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया. 

दरअसल, झांसी के मऊरानीपुर क्षेत्र के छिवयांत मोहल्ले में रहने वाले राजू दुबे के घर में चाय बनाते समय अचानक गैसे सिलेंडर में आग लग गई. यह देख वहां अफरा-तफरी और चीख-पुकार मच गई और सभी की सांसे अटक गई. शोर सुनकर आस-पास के लोगों ने आनन-फानन में इसकी सूचना थाना पुलिस को दी. सूचना के बाद मौके कोतवाल प्रेमचंद्र अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे. 

कोतवाल प्रेमचंद्र ने पहले कम्बल को गीला कर सिलेंडर पर डाला, लेकिन जब आग नहीं बुझी तो उन्होंने अपनी जान जोखिम में डालकर खुद बहादुरी का परिचय देते हुये रस्सी से सिलेंडर को बांधा और घसीटते हुए उसे गांव के बाहर नदी में ले गए. 

सिलेंडर को किसी तरह से पानी में फेंका दिया. घटना के बाद से लोग उनकी तारीफ में कसीदें गढ़ रहे हैं. उनके इस सराहनीय कार्य के लिए पुलिस प्रशासन भी उनकी तारीफ कर रहा है.