अब विदेश आने-जाने में नहीं होगी दिक्कत, पंतनगर में बनेगा उत्तराखंड का पहला इंटरनेशनल एयरपोर्ट

नए एयरपोर्ट से देश-विदेश के साथ-साथ राज्य के अन्य शहरों देहरादून, पिथौरागढ़ के लिए हवाई सेवायें शुरू होंगी. इस हवाई अड्डे के बनने से पर्वतीय राज्य से आवाजाही में लगने वाले समय में भी काफी कमी आयेगी.

अब विदेश आने-जाने में नहीं होगी दिक्कत, पंतनगर में बनेगा उत्तराखंड का पहला इंटरनेशनल एयरपोर्ट
फाइल फोटो

ऊधमसिंह नगर: अब विदेश आने-जाने में दिक्कत नहीं होगी, देश-विदेश के पर्यटक सीधा उत्तराखंड में लैंड कर सकेंगे, साथ ही लंदन, न्यूयॉर्क, दुबई और बैंकॉक जैसे शहरों के लिए भी यहां से उड़ान भर सकेंगे. दरअसल, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को घोषणा की है कि पंतनगर में उत्तराखंड का पहला अंतरराष्ट्रीय  हवाईअड्डा बनेगा. अब तक पंतनगर एयरपोर्ट से केवल छोटे विमान ही संचालित किये जाते थे जबकि नये एयरपोर्ट के बनने के बाद यहां से बोइंग/एयरबस जैसे बड़े यात्री विमानों का भी संचालन किया जा सकेगा.

बता दें कि ऊधमसिंह नगर स्थित पंतनगर एयरपोर्ट कुमाऊं मंडल में उत्तराखंड का महत्वपूर्ण एयरपोर्ट है. विशिष्ट भौगोलिक स्थिति व पर्यटन स्थलों के नजदीक होने के कारण यात्रियों व पर्यटकों के आवागमन के लिए यह एयरपोर्ट बेहद उपयोगी है. वर्तमान में पंतनगर एयरपोर्ट के आस-पास 500 से 600 भवन हैं और 5 हजार से 6 हजार की आबादी रह रही है, जिस कारण इसका विस्तार करना संभव नहीं है. ऐसे में नये ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के निर्माण के लिए भूमि के विभिन्न विकल्पों में से पंतनगर विश्वविद्यालय की भूमि का चयन किया गया है. 1072 एकड़ भूमि के विकल्प को एयरपोर्ट भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण द्वारा निरीक्षणों के बाद उपलब्ध कराये गये प्री फिजिबिलिटी सर्वे की रिपोर्ट में तकनीकि रूप से उपयुक्त पाया गया है.

ये भी पढ़ें: कोरोना ने बढ़ाई पहाड़ की परेशानी, उत्तराखंड में 7 हजार के पार मरीजों का आंकड़ा

नए एयरपोर्ट से देश-विदेश के साथ-साथ राज्य के अन्य शहरों देहरादून, पिथौरागढ़ के लिए हवाई सेवायें शुरू होंगी. इस हवाई अड्डे के बनने से पर्वतीय राज्य से आवाजाही में लगने वाले समय में भी काफी कमी आयेगी. यह हवाई अड्डा लगभग 1100 एकड़ भूमि में बनेगा. पहले चरण में एक रनवे का निर्माण प्रस्तावित है, जबकि दूसरे चरण में इसका विस्तार किया जाएगा. एयरपोर्ट का विस्तार दो चरणों में किया जाना प्रस्तावित है. दूसरे चरण के बाद यह एयरपोर्ट 50 वर्षों के लिए क्षेत्रीय हवाई यातायात की जरूरतों को पूरा करेगा.

सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर के मुताबिक पंतनगर में बनने वाला यह हवाई अड्डा आधुनिकत्म सुविधाओं से लैस होगा, जहां पर्याप्त पार्किंग की व्यवस्था की जा रही है वहीं दूसरी ओर हवाई अड्डे में अधिकत्म यात्री सुविधाओं को सुनिश्चित किया जायेगा. रिपोर्ट में एयरपोर्ट को पीपीपी मोड़ या जेवीसी के माध्यम से निर्मित करने का भी सुझाव दिया गया है. पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने बताया कि एयरपोर्ट भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण द्वारा प्री फिजिबिलिटी सर्वे की रिपोर्ट व जिलाधिकारी ऊधमसिंह नगर की आख्या के अनुसार बरेली-नैनीताल राज्य मार्ग 37 के पास स्थित पंतनगर कृषि विश्वविद्यालय की 1072 एकड़ भूमि नागरिक उड्डयन विभाग को ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट बनाये जाने का प्रस्ताव है.

WATCH LIVE TV: