close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कौशांबी: स्‍कूल में पीने का पानी न मिलने पर बच्‍चे नाराज, ताला डालकर शुरू की हड़ताल

कौशांबी के जवाहर नवोदय विद्यालय के बच्‍चों ने बार-बार की शिकायतों के बाद भी समस्या का हल नहीं निकलने पर आंदोलन का रास्ता चुना है.

कौशांबी: स्‍कूल में पीने का पानी न मिलने पर बच्‍चे नाराज, ताला डालकर शुरू की हड़ताल
बच्‍चे हड़ताल पर बैठे.

कौशांबी (अजय कुमार) : कौशांबी के टेवा स्थित जवाहर नवोदय स्कूल के बच्चे पढ़ाई छोड़कर शुक्रवार को हड़ताल की राह पर चल निकले हैं. सैकड़ों की संख्या में स्कूली बच्चे कॉलेज परिसर में तालाबंदी कर गेट पर धरना दे रहे हैं. उनका आरोप है कि स्कूल में पेयजल की भीषण समस्या से वह पीड़ित हैं. इसके बाद भी प्रिंसिपल उनकी एक नहीं सुन रहे हैं. बार बार की शिकायतों के बाद भी समस्या का हल नहीं निकलने पर उन्होंने आंदोलन का रास्ता चुना है.

स्कूल के प्रिंसिपल का कहना है कि बच्चे पेयजल की समस्या को जितना बड़ा बताकर आंदोलन कर रहे हैं, वो उतनी बड़ी है नहीं. जिसे दूर करने के लिए उनके प्रयास जारी हैं. इसके बाद भी बच्चे ताला बंद कर उदण्डता कर रहे हैं. 

स्टूडेंट अजय पाल के मुताबिक हमारे विद्यालय में सबसे बड़ी समस्या पानी की है. हम बिना पानी के पढ़ाई नहीं कर सकते हैं. लगभग एक महीने से पानी की समस्या से बच्‍चे परेशान हैं. इसकी सारी जानकारी सभी टीचरों और प्रिंसिपल को एक सप्ताह पहले दी है, लेकिन उनकी समस्या में कोई सुधार नहीं हुआ. सभी नल हैंडपंप और वाटर कूलर खराब पड़े हैं. पेयजल की भीषण समस्या है.

देखें LIVE TV

स्‍कूल में पढ़ने वाली स्टूडेंट अंकिता यादव के मुताबिक उनके स्कूल में तो बहुत सारी समस्याएं हैं. प्रिंसिपल सर से शिकायत करने के बाद भी समस्या दूर नहीं की जा सकीं. सबसे बड़ी समस्या पेयजल की है. जिससे उनका कोई काम नहीं हो सकता. बच्चों का कहना है कि उनकी समस्या का जब तक निराकरण नहीं होगा तब तक वह धरने पर बैठे रहेंगे. 

प्रिंसिपल विनोद कुमार श्रीवास्तव के मुताबिक ग्राउंड वाटर लेवल नीचे जाने के कारण यह समास्‍या आई है. बच्चों की संख्या को देखते हुए पेय जल की व्यवस्था बाहर के टैंकर मंगवा कर की गई है. इसके बाद भी बच्चे ताला लगा कर उदंडता कर रहे हैं. इस पेयजल की समस्या से जिला अधिकारी को अवगत करा दिया गया है.