घर में घुसकर पत्रकार को जिंदा जलाया, साथी की भी झुलस कर मौत
X

घर में घुसकर पत्रकार को जिंदा जलाया, साथी की भी झुलस कर मौत

बलरामपुर में दबंगों ने एक पत्रकार और उसके साथी को घर में घुसकर जिंदा जला दिया. वारदात के समय पत्रकार अपने एक साथी के साथ घर में ही मौजूद था. दोनों की ही मौत.

घर में घुसकर पत्रकार को जिंदा जलाया, साथी की भी झुलस कर मौत

बलरामपुर: बलरामपुर जिले के कोतवाली देहात इलाके के कलवारी गांव के एक घर में शुक्रवार को संदिग्ध हालात में आग लगने से पत्रकार राकेश सिंह और उसके एक साथी पिन्टू साहू की झुलस कर मौत हो गई. पत्रकार के परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए कार्रवाई की मांग की है. वहीं पत्रकार ने भी अस्पताल में मौत से पहले दिए गए बयान में दबंगों पर जलाने का आरोप लगाया है. 

ये भी पढ़ें-  बाइक बोट घोटाला: फौजियों के नाम पर चलाया रक्तदान कैंप, 62 हजार यूनिट खून बेच दिया

ढह गई थी दीवारें, आग की लपटों में घिरा था मकान 

बताया जा रहा है कि आग लगने से कमरे की दीवारें ढह गई थीं. दीवारें गिरने के बाद आसपास के लोगों को घटना की जानकारी हुई.  लोगों ने मकान में आग की लपटें देखीं. मौके पर पिंटू का शरीर पूरी तरह जल चुका था. राकेश भी आग की लपटों में पूरी तरह घिरे हुए थे. राकेश का शरीर करीब 90 फीसद झुलस चुका था. लोगों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी. 

ये भी पढ़ें- कोरोना की Second Wave है पहले से ज्यादा खतरनाक, बचाव के लिए ध्यान रखें ये बातें

10-15 लोगों ने दिया घटना को अंजाम 

खबर मिलने के बाद घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने एंबुलेंसकर्मियों की मदद से राकेश को जिला अस्पताल पहुंचाया. डॉक्टरों ने राकेश की गंभीर हालत को देखते हुए उसे लखनऊ के लिए रेफर कर दिया, जहां सिविल हॉस्पिटल में उन्होंने दम तोड़ दिया. मरने से पहले पूछताछ के दौरान दर्द से तड़पते हुए राकेश ने बताया कि 10 से 15 लोग उनके घर में घुस आए थे और उन्होंने ही घटना को अंजाम दिया है. 

3 आरोपी हिरासत में  

पुलिस अधीक्षक (एसपी) बलरामपुर देवरंजन ने बताया कि कलवारी गांव के रहने वाले पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक और उनके साथी पिंटू साहू की कमरे में जलने से मौत हो गई. घटना संदिग्ध है. पूरे मामले की गहराई से जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि पत्रकार राकेश सिंह अखबार के साथ-साथ स्वतंत्र पत्रकारिता भी करते थे. तहरीर के आधार पर तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. इन तीनों लोगों में एक वर्तमान और एक पूर्व प्रधान शामिल है. जल्दी ही घटना के कारणों का खुलासा कर दिया जाएगा. 

पुलिस नहीं दे रही पूरी जानकारी 

वहीं मृतक राकेश सिंह की पत्नी विभा सिंह ने कहा कि घटना के समय वो अपनी दो बेटियों के साथ अपने रिश्तेदार के घर गई हुई थीं. हालांकि उन्होंने आरोप लगाया कि राकेश को ट्रामा सेंटर (लखनऊ) ले जाने के दौरान उन्हें सूचना नहीं दी. उन्हें निधन के बाद रात के दो बजे सूचना दी गई. 

ये भी पढ़ें-  देव दीपावली पर काशी आएंगे पीएम मोदी, गंगा की लहरों से करेंगे लेजर शो का दीदार

ये भी पढ़ें-  धर्म परिवर्तन के लिए जबरदस्ती करने के आरोप में UP में पहला केस दर्ज

WATCH LIVE TV

Trending news